ई-कारों में 20% गाड़ियों की सप्लाई कर सकती हैं विदेशी कंपनियां

नई दिल्ली(14 मई): सरकार के 10,000 ई-कारों के टेंडर का 20% हिस्सा निसान, ह्यूंदै और किया मोटर्स जैसी विदेशी कंपनियों को मिल सकता है। केंद्र इनमें कुछ अपग्रेडेड सिडैन और लग्जरी इलेक्ट्रिक कारों को भी शामिल करना चाहता है।सरकारी कंपनी, एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड ने 10,000 इलेक्ट्रिक कारों के लिए इसी साल अप्रैल में ग्लोबल टेंडर निकाला था। पिछले टेंडर में जहां उसने बेसिक इलेक्ट्रिक सेडान कारें खरीदने की बात कही थी, वहीं हालिया टेंडर में 2,000 लग्जरी या नेक्स्ट जेनरेशन सिडैन खरीदे जा सकते हैं।हालांकि, इस बारे में अंतिम फैसला डिपार्टमेंट ऑफ हेवी इंडस्ट्रीज (DHI) की तरफ से चार्जिंग स्टेशन के स्पेसिफिकेशंस पर डिपेंड करेगा। चार्जिंग स्टेशन के स्पेसिफिकेशंस के हिसाब से EESL ऑर्डर की 20% गाड़ियों के लिए लंबाई की ऊपरी सीमा हटा सकती है। इसका मतलब यह होगा कि ऑटोमोबाइल कंपनियां टेंडर के तहत बड़ी गाड़ियां भी ऑफर कर सकेंगी।