भारतीय सेनाएं किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार: जेटली

नई दिल्ली (28 जुलाई): रक्षामंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को कहा कि भारतीय सेना किसी भी तरह की आपात स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है। हाल ही में आई कैग रिपोर्ट में गोला-बारूद की उपलब्धता मामले से जुड़े सवालों का लोकसभा में जवाब देते हुए रक्षामंत्री ने कहा कि गोला-बारूद की उपलब्धता को सुगम बनाने के लिए खरीद प्रक्रिया का विकेंद्रीकरण किया गया है और सैन्य प्रमुखों को इस बारे में अधिकार भी प्रदान किए गए हैं। उन्होंने आश्वासन दिया है कि सेना आपात स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह लैस है। 

गौरतलब है कि संसद के इसी सत्र में पेश की गई सीएजी रिपोर्ट में कहा गया था कि सेना के पास बेहद कम मात्रा में गोला-बारूद उपलब्ध है। इस मामले में रिपोर्ट में रक्षा अधिकारियों पर भी सवाल उठाए गए थे। लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस के राजीव सात्व और अन्य सदस्यों के पूरक सवालों का जवाब देते हुए रक्षामंत्री ने कहा कि संसदीय प्रक्रिया के अनुसार कैग की रिपोर्ट संसद में आने के बाद लोक लेखा समिति की भेजी जाती है और जब लोकलेखा समिति अपनी टिप्पणियों के साथ यह रिपोर्ट सरकार को भेजती है, तब इस पर सरकार कार्रवाई करती है। 

अगर समिति ने इस रिपोर्ट को लेकर भी कोई सिफारिश की तो सरकार कार्रवाई करेगी। रक्षामंत्री ने सदस्यों को यह भी बताया कि कैग की यह रिपोर्ट 2012 से 2016 की अवधि को लेकर है। सरकार ने वैसे भी गोला-बारूद उपलब्ध कराने के लिए खरीद प्रक्रिया को आसान बनाया है और इस वक्त सेना किसी भी हालात से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है।