जाडेजा की मंगेतर के लिए क्रिकेट नहीं यूपीएससी परीक्षा है प्राथमिकता

नई दिल्ली (11 फरवरी) :  रीवा सोलंकी के लिए कभी क्रिकेट 'समय की बर्बादी' के सिवा कुछ नहीं था। लेकिन टीम इंडिया के ऑलराउंडर रवींद्र जाडेजा के साथ पिछले हफ्ते राजकोट में सगाई के बाद रीवा का नज़रिया बदल गया है। बदले भी क्यों ना, अब ये रीवा के लिए ज़िंदगी का अहम हिस्सा जो बनने जा रहा है।   

हालांकि अभी रीवा मैच में जाडेजा को खेलता देखने के लिए उनके साथ नहीं जाएंगी। रीवा का कहना है कि फिलहाल उनकी प्राथमिकता सिविल सर्विसेज की परीक्षा है। रीवा का कहना है कि परीक्षा निपटने के बाद उनके पास मैच देखने के लिए बहुत वक्त होगा।

(फोटो आभार- मिडडे)

बताया गया है कि रीवा के घर में पहले जब भी टीवी पर क्रिकेट मैच चलता था, वे दूसरे कमरे में चली जाती थीं। मिडडे की रिपोर्ट के मुताबिक रीवा ने बताया कि रवींद्र के उनके जीवन में प्रवेश से पहले वे कभी क्रिकेट में दिलचस्पी नहीं लेती थीं। लेकिन अब वो पुरानी बात हो गई है। रीवा ने बताया कि अब जिन मैचों में रवींद्र खेलेंगे, उन्हें देखने जाएंगी। 24 वर्षीय रीवा ने कहा कि अब उन्होंने क्रिकेट को गंभीरता से फॉलो करना शुरू कर दिया है।  

बता दें कि जाडेजा ने तीन महीने पहले वाट्सएप के ज़रिए पहली बार रीवा का फोटोग्राफ देखा था। ये फोटो जाडेजा की बहन नयना ने उन्हें भेजा था। जाडेजा पारिवारिक परंपरा को निभाते हुए अपने समुदाय की लड़की से ही शादी करना चाहते थे। बीते आठ महीने से जाडेजा का परिवार उनके लिए योग्य लडकी की तलाश कर रहा था।

रीवा फिलहाल यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन परीक्षा की तैयारी कर रही हैं। रीवा ने कहा कि रवींद्र जाडेजा बाहर से सख्त नज़र आते हैं लेकिन भीतर से बहुत नर्म और मुलायम दिल वाले हैं। उन्हें कुत्तों और घोड़ों से बहुत लगाव है। वे क्रिकेट से फुर्सत में अपना अधिकतम समय फार्म हाउस पर बिताते हैं। वो बेशक अंतर्मुखी है लेकिन दोस्तों और परिवार के साथ वक्त बिताना पसंद करते हैं।

रीवा से सगाई के बाद ही सौराष्ट्र से रणजी खेलने वाले रवींद्र जाडेजा को एशिया कप और आईसीसी वर्ल्ड टी 20 टीम में चुने जाने का एलान हुआ था। इसलिए रीवा को रवींद्र जाडेजा अपना लेडी लक मानते हैं।