मुंबई भगदड़: 23 मौतों के बाद जागी सरकार, 150 साल पुराने रेलवे नियम बदलने का ऐलान

नई दिल्ली(30 सितंबर): मुंबई के परेल में फुटओवर ब्रिज पर भगदड़ की घटना के बाद रेल मंत्रालय हरकत में आ गया है। शनिवार को रेलमंत्री पीयूष गोयल की अगुवाई में रेलवे बोर्ड की उच्चस्तरीय बैठक हुई। इसमें कई बड़े फैसले लिए गए। रेलमंत्री ने रेलवे के 150 साल पुराने नियमों को बदलने का बड़ा ऐलान किया।

- इस बैठक में आरपीएक के डीजी, जीएम, डीआरएम और पैसेंजर सेफ्टी ऑफिसर समेत पूरे रेलवे बोर्ड ने हिस्सा लिया। 

- इस उच्चस्तरीय बैठक में रेलवे के 200 अधिकारियों को हेड क्वार्टर से फील्ड ड्यूटी पर तैनात करने का फैसला लिया गया, ताकि ग्राउंड ऑपरेशन्स को मजबूत किया सके और प्रोजेक्ट के क्रियान्वयन में तेजी लाई जा सके।

- इसके साथ ही अगले 15 महीने में मुंबई के सभी उपनगरीय ट्रेनों में मॉनिटरिंग मैकनिज्म के साथ सीसीटीवी कैमरा लगाए जाएंगे, जो पूरे भारत के समानांतर काम करेंगे। रेलवे की सुरक्षा और दक्षता बेहतर बनाने के लिए मुंबई के आठ यार्ड्स समेत पूरे भारत के 40 यार्ड्स को अपग्रेड किया जाएगा। इसके लिए एक हजार करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा।

- मुंबई उपनगरीय के भीड़-भाड़ वाले स्टेशनों पर अतिरिक्त एस्केलेटर लगाने को मंजूरी दी गई, जो बाद में देश के ज्यादा भीड़-भाड़ वाले स्टेशनों में भी लगाए जाएंगे। इस उच्चस्तरीय बैठक के दौरान नौकरशाही और लेटलतीफी को समाप्त करने के लिए बड़ा फैसला लिया गया और जीएम को सुरक्षा के लिए जरूरी खर्च करने का अधिकार दिया गया।