अब आसमान में उड़ेंगे 'टैक्सी ड्रोन्स', एक बार में एक ही पैसेंजर जा सकेगा...

नई दिल्ली (8 जून): अमेरिका में ऐसे ड्रोन्स को ट्रायल के लिए मंजूरी मिल गई है, जो इंसानों को ट्रांसपोर्ट करने में सक्षम हैं।

'द टेलीग्राफ' की रिपोर्ट के मुताबिक, 'The Ehang 184' एक छोटा पर्सनल हेलीकॉप्टर है, जो केवल सिंगल पैसेंजर को ले जाने में सक्षम है। CES 2016 में पहली बार इसे सामने लाया गया। इस 'टैक्सी ड्रोन' में बॉडी के ऊपर एक बड़े रॉटर की जगह 4 रॉटर्स नीचे लगाए गए हैं। जो रिमोट कंट्रोल ड्रोन की तरह दिखाई देता है।

लॉस वेगास में इस साल के अंत में Ehang इसका टेस्ट शुरू करेगा। जिससे इस उम्मीद को पूरा किया जा सके, कि इसे कैसे स्टेट के ट्रांसपोर्ट सिस्टम में इस्तेमाल किया जा सकता है।

ऑटोनॉमस फ्लाइंग विहिकल बिजली से चलता है। एक दो घंटे की चार्जिंग से यह सी-लेवल पर एक पैसेंजर के साथ 23 मिनट तक उड़ सकता है। इसके साथ थोड़ा बहुत सामान भी रखा जा सकता है। कंपनी के मुताबिक, जिसका वजन 100 किलोग्राम तक हो सकता है। ज्यादा ऊंचाई पर फ्लाइंग करने पर यह 101 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से 10 मिनट तक उड़ सकता है।

Ehang 184 को उड़ाने के लिए पैसेंजर को बस अपने फोन के एप में डेस्टिनेशन एंटर करना है। इसके बाद ड्रोन खुद ही रूट नेवीगेट करने में सक्षम है। इसके अलावा रुकावटों से भी दूर हो जाता है। यह किसी भी डेस्टिनेशन तक फ्लाई कर सकता है। 

लैंडिंग करने पर इसके प्रॉपेलर्स फोल्ड हो जाते हैं, और यह सिंगल पार्किंग स्पेस के भीतर आ सकता है। जो किसी कार के लिए डिजाइन की तरह हो। 

फिलहाल अभी कम्पनी ने इस विहिकिल का केवल एक नमूना ही तैयार किया है।  Ehang नेवादा इंस्टीट्यूट फॉर अटॉनॉमस सिस्टम्स के साथ मिलकर इस सिस्टम को डेवलेप और टेस्ट कर रहा है। यह ग्रुप नेवादा के गवर्नर की तरफ से स्पॉन्सर्ड है।