बिहार: बाढ़ से हालात बेकाबू, 65 लाख से ज्यादा प्रभावित, 90 लोगों की मौत

नई दिल्ली ( 15 अगस्त ): नेपाल की बारिश ने कोसी-सीमांचल से लेकर उत्तर बिहार तक हालात बेकाबू होते जा रहे हैं। बाढ़ से अब तक 90 से अधिक लोगों से मौत हो चुकी है। आपदा प्रबंधन विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक राज्‍य के 81 प्रखंडों की 66 लाख आबादी बुरी तरह बाढ़ से प्रभावित है। लोग ऊंचे स्थानों की ओर पलायन कर रहे हैं।

मंगलवार तक दरभंगा, मधुबनी, गोपालगंज, अररिया व किशनगंज सहित राज्‍य के कई भागों में जगह-जगह तटबंध टूट रहे हैं। खासकर सीमांचल के हालात काफी बिगड़ गए हैं। उधर, मुजफ्फरपुर व गोपालगंज में भी हालात बिगड़ने लगे हैं।

बाढ़ से अबतक विभिन्न जिलों में 90 से अधिक लोगों के मरने की सूचना है। हालांकि, आपदा प्रबंधन विभाग के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार अभी तक 51 लोगों की मौत हुई है। सबसे ज्यादा अररिया में मौत हुई है। मंगलवार को पूर्णिया में चार बच्‍चों की डूबने से मौत हो गई। मंगलवार को सीतामढ़ी में भी दो बच्‍चे डूब गए। उधर, सुपौल में चार महिलाएं भी नहाने के दौरान डूब गईं।

सीतामढ़ी में छह, किशनगंज में पांच, मधेपुरा में चार, कटिहार में तीन और सहरसा में दो लोगों के डूबने की सूचना है। नालंदा के पंचाने नदी में भी दो के मरने की सूचना है। सैकड़ों गांव जलमग्न हैं। सरकारी कार्यालय डूबे हुए हैं। सिकटी, पलासी व जोकीहाट में भी लोगों के मरने की सूचना है।

मृतकों में पश्चिम चंपारण में 17, पूर्वी चंपारण में पांच, मधुबनी में चार, सीतामढ़ी -शिवहर में तीन-तीन लोग शामिल हैं।