PHOTOS: कुदरत के आगे सुपर पावर फेल, अमेरिका में 1 घंटे में 1 महीने की बारिश

वाशिंगटन (19 अप्रैल): अमेरिका में तूफान और बाढ़ के बाद लोगो को भारी मुसिबत का सामना करना पड़ रहा है। बताया जा रहा है कि  ह्यूस्टन और टेक्सास इलाके में महज 1 घंटे में इतनी बारिश हुई, जितनी यहां एक महीने में भी नहीं होती। यहां तूफान के कहर में अब तक 5 लोगों की जान जा चुकी है। लेकिन मौसम का मिजाज कुछ इस कदर बिगड़ा है कि लोगों को अभी इस मुश्किल से राहत नहीं मिलने वाली। 

> अमेरिका के ह्यूस्टन में भयंकर बारिश और बाढ़ की चपेट में आकर करीब 5 लोगों की मौत हो चुकी है। 
> ह्यूस्टन की सड़के पानी में डूब गईं हैं और लोगों के घरों में पानी भर गया है।
> अमेरिका में भारी बारिश के बाद आई इस बाढ़ को एतिहासिक बाढ़ बताया जा रहा है। 
> लोग भी हैरान हैं अमेरिका के ह्यूस्टन इलाके में इसके पहले कभी ऐसी बारिश नहीं हुई। 
> अमेरिका में ह्यूस्टन के इस इलाके में एक महीने में करीब 4 इंच बारिश होती है। 
> लेकिन रविवार को कुदरत ने तो जैसे आफत मचा दिया। एक दिन में ही इस इलाके में 15 इंच बारिश हुई है। 
> कंधों तक बाढ़ के पानी में लोग सामान, बच्चों और बुजुर्गों के साथ सुरक्षित स्थानों पर पहुंचने की कोशिश कर रहे थे। 
> हलांकि कई लोगों को पानी की गहराई और धार का अंदाजा ही नहीं हुआ और ये लोग बाढ़ के पानी में समा गए। 
> इंसानों को ही नहीं जानवरों को भी बाढ़ की इस भयंकर विभिषिका से निपटना पड़ा। 

 

बाढ़ के कारण सब ठप
स्कूल, कॉलेज और दफ्तर बंद हैं। लोगों को घरों से दूर ना जाने को कहा गया है, क्योंकि बाढ़ के पानी के उतरने तक अंदाजा लगाना मुश्किल है कि कहां पानी की कितनी गहराई है। ऐसे में लोगों की जिंदगी खतरे में पड़ने की आशंका है। हलांकि लोगों को अभी इस मुसिबत से राहत नहीं मिलने वाली क्योंकि मौसम विभाग ने अभी और बारिश की आशंका जताई है। जिससे पहले से बाढ़ की तबाही झेल रहे ह्यूस्टन और टेक्सास के इलाकों में लोगों को और परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। 

बचाने के लिए लगाए कई शिविर
इस बाढ़ से प्रबावित इलाकों में लोगों को राहत पहुंचाने के लिए कई राहत शिविर लगाए गए हैं। करीब एक हजार लोगों को इन राहत शिविरों में रखा गया है। लेकिन बाढ़ प्रभावित इलाकों में लोगों को राहत पहुंचाने का काम अभी खत्म नहीं हुआ है। सबसे बड़ी परेशानी है कि बाढ़ की वजह से इस इलाके में पब्लिक ट्रांसपोर्ट पूरी तरह से ठप्प पड़ गया है, जिससे लोगों को राहत पहुंचाने में दिक्कत हो रही है। 

एयरपोर्ट पर भी असर
बताया जा रहा है कि कुदरत के इस कहर की वजह से करीब 5 सौ फ्लाइट्स को रद्द करना पड़ा। एयरपोर्ट की ओर जाने वाली सड़ें भी पानी में डूबी हैं, सबसे बड़ी दिक्कत बिजली के गुल होने की वजह से हो रही है। बताया जा रहा है कि तूफान की वजह से करीब 1 लाख घरों की बिजली गुल हो गई। इसे बहाल करने में काफी मुश्किलें आ रही हैं।