आफत की बरसात: देश के 10 सूबे पानी-पानी

नई दिल्ली (29 जुलाई); पहले तो देश में बारिश नहीं होने की वजह से कई राज्य मुसीबत में थे। लेकिन अब देश के दस राज्यों में बारिश आई तो आफत की बरसात बन गई... जानिए इन राज्यों का हाल-

1. उत्तराखंड... अब तक 58 लोगों की मौत उत्तराखंड में भी लगातार हो रही बारिश से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। राज्य में अभी तक 58 लोगों की मौत हो चुकी है और कई घायल हैं। राज्य में बहने वाली अधिकतर नदियां उफान पर हैं। भूस्खलन की वजह से कई रास्ते बंद हो गए हैं,उत्तर काशी के सभी छोटे बड़े पुल बह गए हैं मसूरी में पिछले कई दिनों से हो रही बारिश लोगों के लिए मुसीबत बन गई है। शहर की अधिकांश सड़कें भारी बारिश के बाद टूट गई हैं। टिहरी उत्तरकाशी का मुख्य मार्ग एक हफ्ते से पूरी तरह से बंद पड़ा है, जिससे लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कालाढ़ूगी में दो बाइक सवार बुधवार को बारिश के बाद एक नाले में बह गए, जिन्हें लोगों ने बचाया। प्रदेश के पहाड़ी इलाकों में भारी बारिश हो रही है। देवप्रयाग में कई जगह सड़कें टूट गई हैं। केदारनाथ और बद्रीनाथ जाने वाले तीर्थयात्री बीच रास्ते में फंस गए हैं। कई जगहों पर लैंडस्लाइड हुई। यहां अलकनंदा नदी में बाढ़ के चलते स्कूली बच्चे रस्सी की ट्राली से नदी पार करने पर मजबूर हैं। 2. मध्यप्रदेश... अब तक 34 लोगों की मौत पूरे मध्यप्रदेश में बारिश का दौर जारी है, निमाड़ में लगातार दूसरे दिन तेज बारिश से नर्मदा उफान पर है। मध्यप्रदेश में वर्षा और बाढ़ से अब तक 34 मौत, प्रदेश के 34 जिलों में सामान्य से अधिक वर्षा दर्ज। प्रदेश में 2,487 मकान पूर्ण रूप से और 19,283 आंशिक तौर पर क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। पानी बढ़ने से ओंकारेश्वर डैम के पांच गेट एक साथ खोले गए, यहां नर्मदा नदी सामान्य से 12 फीट ऊपर बह रही है। ग्वालियर अंचल में तेज बारिश से मड़िखेड़ा डैम (अटल सागर) के 6 गेट खोलने पड़े। भोपाल के आसपास बारिश होने से केरवा डैम में पानी का लेवल बढ़ गया, यहां बुधवार रात दो गेट खोलने पड़े। प्रदेश के रायसेन, शिवपुरी, होशंगाबाद, खंडवा, झाबुआ में बारिश के चलते कई नदी-नाले उफान पर हैं। अलीराजपुर में नदी का रपटा पार कर रहे मगर सिंह और कमना डावर की नदी में बहने से मौत हो गई। गुरुवार को भोपाल, रायसेन, होशंगाबाद, सागर और बैतूल जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। दूसरी तरफ चंबल नदी भी अपने उफान पर है, जिसके चलते नगदा में बाढ़ के हालात बन गए हैं। नागदा का चामुंडा नदी जलमग्न हो गया है। लोग सुबह जब मंदिर पहुंचे तो वो नदी में डूबा हुआ दिखाई दिया। 3. बिहार: बाढ़ से 18 लाख लोगों पर असर उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में बाढ़ की बात करें तो बिहार सबसे प्रभावित है। पिछले 24 घंटे में बाढ़ में पांच और लोग डूबे। मरने वालों का आंकड़ा 22 पहुंच चुका है। बिहार के सहरसा, खगड़िया मोतिहारी, और दरभंगा जिलों में इस समय बाढ़ से सबसे ज्यादा हालात खराब हैं। यहां पर कोसी नदी एक बार फिर अपने प्रचंड रुप में दिखाई दे रही है। नेपाल से पानी छोड़े जाने के बाद कोसी का जल स्तर लगातार बढ़ रहा है इसके साथ ही की छोटे बड़े तटबंधों को खतरा पैदा हो गया है। नेपाल से आ रहा पानी मुसीबत की वजह तो था ही, बिहार में बारिश ने हालात और खराब कर दिए। सिर्फ पटना में 44 मिमी बारिश हुई, 10 जिले बाढ़ग्रस्त हो चुके हैं, बाढ़ से 18 लाख लोगों पर असर पड़ा है। डिजास्टर मैनेजमेंट डिपार्टमेंट के मुताबिक एक लाख हेक्टेयर में बाढ़ का असर है, 50 हजार हेक्टेयर में खड़ी फसलों को नुकसान हुआ है। अभी तक 3 लाख 88 हजार 416 लोगों ने सेफ जगहों पर शरण ली है। बिहार में पिछले 24 घंटे के दौरान बिजली गिरने से चार महिलाओं समेत 6 की मौत हो गई। इस सीजन में बिजली गिरने से मरने वालों का आंकड़ा 82 तक पहुंच गया है। खगड़िया में कोसी और गंडक नदियां मिलकर कहर बरसा रही हैं। ॉ पानी के बढ़ते जल स्तर के चलते इलाके के कई गांव जल मग्न हो गए हैं और वहां पर पहुंचने का एक मात्र जरिया सिर्फ नाव ही रह गया है। चंपारण में भी पानी के बढ़ते जल स्तर के डर से मोतिहारी के कई इलाकों में अलर्ट जारी किया गया है। गंडक बराज से पानी छोड़े जाने के बाद जारी रेड अलर्ट को देखते हुए सरकार ने लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाना शुरू कर दिया है। साथ ही प्रशासन ने 18 कैंप भी बनाएं। 4. महाराष्ट्र: कहीं जाम तो कहीं फ्लाइट-ट्रेन लेट मुंबई और पुणे में हो लगातार हो रही बारिश ने जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। मुंबई के अंधेरी में वेस्टर्न एक्सप्रेस हाईवे पर जाम लगा हुआ है। बारिश के चलते एक की मौत भी हुई है। ईस्टर्न एक्सप्रेस वे पर सायन की ओर जाने वाला रूट जाम हो गया। बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर भी गाड़ियों की रफ्तार धीमी देखी गई। बारिश की वजह से फ्लाइट्स 15-20 मिनट देर से चलीं। सेंट्रल रेलवे, वेस्टर्न रेलवे और हार्बर रूट पर चलने वाली लोकल ट्रेन 15-20 मिनट की देरी से चल रही हैं। 5. असम: बारिश से 21 मौतें, 20 लोगों पर असर असम में बाढ़ से 21 लोगों की मौत हो चुकी है। 20 लाख लोग इससे प्रभावित हैं। यहां के मोरीगांव, जोरहट, डिब्रूगढ़ में सड़क से संपर्क टूट चुका है। कोकराझार, बोनाईगांव और गोलाघाट में भी पानी रिहाइशी इलाकों तक घुस आया है। राज्य के 21 जिलों के करीब 17 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। NDRF-SDRF की टीम लोगों को सेफ जगहों पर पहुंचा रही हैं। असम का भी बाढ़ से बुरा हाल है। ब्रह्मपुत्र नदी उफान पर है, जिससे कई इलाकों में बाढ़ का पानी घुसने का लगातार खतरा बना हुआ है। वहीं काजिरंगा नेशनल पार्क में भी बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है, खतरे को देखते हुए वन विभाग की टीम ने कई जानवरों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। लेकिन बाढ़ में अब तक 7 गैंडों समेत 25 से ज्यादा जानवरों की मौत हो चुकी है 6. कर्नाटक: बेंगलुरु में चलानी पड़ी नाव बेंगलुरु में भारी बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया। फायर ब्रिगेड डिपार्टमेंट ने सड़क पर बोट चलाकर लोगों को रेस्क्यू किया। बारिश के चलते गिरे पेड़ों ने लोगों की परेशानी और बढ़ाई। बायोकॉन इंडस्ट्रीज की ओनर किरण मजूमदार शॉ ने ट्वीट किया, 'बेंगलुरु, को बेंगलेकू कहना चाहिए। बारिश ने पूरे शहर को झील में तब्दील कर दिया है। जाम से लोग परेशान हो रहे हैं।' 7. हिमाचल प्रदेश पर्यटकों की सबसे पसंदीदा जगह कुल्लू इन दिनों बाढ़ की चपेट में हैं। भारी बारिश के बाद पहाड़ों से नीचे आ रहे पानी ने कुल्लू शहर में कोहराम मचा दिया है। सरबरी और व्यास नदियां उफान पर हैं और उसके पानी से कुल्लू बस स्टैंड के आस-पास पानी की झील सी बन गई है। हालात की गंभीरता को देखते हुए निचले इलाके को खाली भी करा लिया गया है। 8. जम्मू-कश्मीर... अब तक 4 लोगों की मौत जम्मू-कश्मीर में कई नदियां उफान पर हैं। जम्मू में बाढ़ में बहे 2 स्कूली बच्चों की मौत हो गई। जबकि राजौरी में महिला की मकान ढहने और पुंछ की मेंढर तहसील में नदी में बहने से एक अज्ञात महिला की जान चली गई। उधर जम्मू-कश्मीर में चिनाब अपने अब तक के सबसे रौद्र रूप में दिखाई दे रही है। पानी के बढ़ते स्तर को देखते हुए नदी से सटे अखनूर और दूसरे निचले इलाकों में अलर्ट भी जारी कर दिया गया है। श्रीनगर में मंगलवार-बुधवार को 10 सेंटीमीटर बारिश हुई। बारिश का पानी रिहाइशी इलाकों में घुस गया। जम्मू में बुधवार को 6 घंटे तक हुई बारिश से सड़कें पानी से लबालब हो गईं। राजौरी जिले में नदियां और कई बरसाती नाले उफान पर हैं। राज्य में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। जम्मू में बारिश ने पिछले 30 वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ दिया। पिछले 24 घंटों में 172.7 मिलीमीटर बारिश रिकार्ड की गई। 9. उत्तर प्रदेश... अब तक 8 लोगों की मौत बाढ़ से अब तक 8 लोगों की मौत हो चुकी है। बांदा शहर में केन नदी की उफनाती जलधारा खतरे के निशान को पारकर तीन मीटर ऊपर बह रही है कानपुर में गंगा का जल स्तर लगातार बढ़ रहा है और इसी के साथ नदी में कटान भी तेज हो गई है। अगर गंगा का जल स्तर इसी तफ्तार से बढ़ता रहा तो आन वाले दिनों में आस पास के गावों को डूबने का खतरा हो जाएगा। यूपी के सिद्धार्थ नगर में भी बाढ़ से बुरे हालात हैं। अबतक जिले के 25 गांव बाढ़ के पानी में समा गए हैं जबकि 140 गांवों पर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। सूबे के सिंचाई मंत्री शिवपाल यादव ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा लिया और अधिकारियों को बाढ़ पीड़ितों की मदद करने के निर्देश दिए। यूपी के जौनपुर में भारी बारिश के बाद एक सरकारी अस्पताल में पानी भर गया जिससे मरीजों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बांदा में केन नदी के आसपास के दर्जनों गांंव बाढ़ की चपेट में आ चुके हैं। 10. हरियाणा... यमुना में फंसे 10 लोगों को हेलिकॉप्टर से बचाया हथिनीकुंड डैम के गेट खुलने से यमुना नदी में अचानक बाढ़ आ गई। इसके चलते यमुनानगर में 7 और सहारनपुर में 3 लोग टापू पर फंस गए। पानी का बहाब तेज होने से एयरफोर्स का हेलिकॉप्टर बुलाकर 10 लोगों को दो जगहों से रेस्क्यू किया।