222 सालों से लगातार जल रहा है यह दीपक

अहमदाबाद(30 अक्टूबर): दिवाली में दीया जलाना अच्छाई और विजय का प्रतीक माना जाता है, इसकी चमक हमारे भीतर उत्साह भरती है। अहमदाबाद में एक तेल का दीया ऐसा भी है जो पिछले 222 सालों से लगातार जल ही रहा है। इस दीये का नाम है 'दीपकजी'। 

- गोस्वामी हवेली पर नटवर प्रभु और श्यामल जी के वैष्णव मंदिर पर जल रही इस अखंड ज्योति पर सभी समुदाय और जाति के लोगों का विश्वास है।

- मंदिर के बारे में कहा जाता है कि गोस्वामी रघुनाथ जी ने 222 साल पहले नटवरप्रभु जी की मूर्ति को अहमदाबाद के हवेली में स्थित मंदिर में स्थापित किया था। बाद में उनके बड़े पुत्र गोपीनाथ जी ने गोस्वामी हवेली में महत्वपूर्ण कर्मकांड और पूजम के लिए एक दीया स्थापित कर दिया था। मंदिर में अनुष्ठान करते हुए गोपीनाथ जी ने तप किया और 'अमृतसंजीवनी' प्राप्त की। इसके बाद दीये में कालिख जमने के बजाय सिंदूर जमा हो गया था। इस सिंदूर का प्रयोग मूर्ति की पूजा के लिए किया जाता है।

- गोपीनाथजी के भाई छोटाजी महाराज ने अमृसंजीवनी भेंट कर दी थी क्योंकि उनका कोई वारिस नहीं था। उसी साल एक सामुदायिक मिलन सम्मेलन किया गया था जिसमें भगदड़ के बाद 7 लोगों की मौत हो गई थी। मंदिर के पुजारी गोस्वामी रणछोड़लालजी ने बताया कि प्रार्थना से चमत्कार हुआ था और भगदड़ में मरे सातों लोग वापस जी उठे थे। पुजारी ने बताया कि उसके बाद से लोगों में इस मंदिर के प्रति और आस्था गहरी हो गई। इसके बाद हर गुरुवार को लोगों ने मंदिर के दीये में तेल चढ़ाना शुरू कर दिया। जिसके बाद दीपक कभी नहीं बुझा।