जार्डन में फिलिस्तीनी रिफ्यूजी कैंप के खुफिया दफ्तर पर हमला, 5 अफसरों की मौत

नई दिल्ली (6 जून):  जॉर्डन की राजधानी अम्मान में फिलिस्तीनियों के एक रिफ्यूजी कैंप में खुफिया विभाग के दफ्तर पर हुए आतंकवादी हमले में 5 इंटेलिजेंस अफसरों की मौत हो गयी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अम्मान के बाहरी इलाके बाका में रिफ्यूजी कैंप के पास ही इंटेलिजैंस विभाग का दफ्तर है। हमले की जिम्मेदारी अभी तक किसी आतंकवादी गुट ने नहीं ली है। हमले के बाद बाका में सिक्योरिटी बढा दी गयी है। कैंप में भी तलाशी अभियान चल रहा है। सुरक्षा बलों को यह आशंका है कि आतंकी रिफ्यूजी कैंप में ही छिपे हो सकते हैं। पुलिस प्रवक्ता ने इससे ज्यादा जानकारी देने से इंकार किया है।

गौरतलब है कि 1967 में अरब-इजराइल युद्ध शुरु होने के बाद 1968 में बनाये गये छह कैंपों में से एक बाका रिफ्यूजी कैंप है। यहां पर वेस्ट बैंक और गैजा पट्टी से आये लोग रहते हैं। यूएन रिलीफ एंड वर्क एजेंसी ने कहा कि यह जॉर्डन का सबसे बड़ा रिफ्यूजी कैंप है। यहां पर लगभग 70 लाख लोग रहते हैं। जॉर्डन की सरकार ने आईएसआईएस के समर्थकों की धर पकड़ के लिए पिछले साल यहां व्यापक अभियान भी शुरु किया था। आज हुए आतंकी हमले में एक सुरक्षा गार्ड और एक टेलिफोन एक्सचैंज ऑपरेटर भी मारा गया है।