दो भारतीय समेत पांच विदेशी आईएसआईएस के चंगुल से आजाद

नई दिल्ली (22 नवंबर): लीबियाई सेना ने दो भारतीय समेत पांच विदेशी नागरिकों को आईएसआईएस के चंगुल से आजाद कराया है। आतंकी गुट को सिर्ते से खदेड़ने के लिए इन दिनों व्यापक सैन्य अभियान छेड़ा गया है। सीरिया के रक्का और इराक के मोसुल के बाद सिर्ते आइएस का तीसरा सबसे बड़ा गढ़ है।

लीबिया के पूर्व तानाशाह मुअम्मर गद्दाफी और विद्रोही गुटों में टकराव का फायदा उठाते हुए आईएसआईएस ने एक साल पहले सिर्ते पर कब्जा कर लिया था। स्थानीय अधिकारी रिदा ईसा के मुताबिक मुक्त कराए गए लोगों में भारत और तुर्की के दो-दो तथा एक बांग्लादेशी नागरिक हैं। उन्हें कब और कहां से अगवा किया गया था, इसकी जानकारी नहीं दी गई है।

सिर्ते में कई तेल क्षेत्र हैं, जहां विदेशी कर्मचारी काम करते हैं। मई 2015 में आइएस ने चेक गणराज्य, ऑस्ट्रीया और बांग्लादेश के एक-एक नागरिक का अपहरण कर लिया था। पिछले साल फरवरी में मिस्त्र के ईसाई समुदाय के कई लोगों का सिर कलम कर दिया गया था।