इन वजहों से टीम इंडिया बनेगी टी-20 वर्ल्ड कप की चैंपियन

नई दिल्ली(6 फरवरी): कई दिग्गज पहले ही टीम इंडिया को टी-20 वर्ल्ड कप का प्रबल दावेदार बता चुके हैं। टीम इंडिया का टी-20 वर्ल्ड कप का सफर 15 मार्च को न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच के साथ शुरू होगा। टीम इंडिया एक बार फिर 2007 का इतिहास दोहराना चाहेगी। आईसीसी वर्ल्ड टी-20 का आयोजन इस बार भारत में हो रहा है। जिन 15 खिलाडिय़ों के कंधों पर वर्ल्ड कप जिताने का जिमा हैं उनका ऐलान हो चुका है।

ये हैं वो पांच कारण जिनके कारण टीम इंडिया फिर बन सकती है विजेता

1. इंडियन टीम में युवा और अनुभ्भवी खिलाडिय़ों का परफेक्ट कॉबिनेशन : टी-20 वर्ल्ड कप के लिए जिस टीम का चयन किया है उसमें युवा और अनुभवी खिलाडिय़ों का परफेक्ट कॉबिनेशन दिख रहा है। धोनी की कप्तानी में टीम में जोश भी नजर आ रहा है और होश भी। टीम में तीन अनुभवी खिलाडिय़ों की वापसी हो चुकी है जो किसी परिस्थिति में पासा पलट सकते हैं।

2. फिर चमकी है धोनी की किस्मत : धोनी के आलोचकों को मिला करारा जवाब। पिछले कुछ दिनों से टीम इंडिया के प्रदर्शन को लेकर धोनी की कप्तानी पर सवाल उठने लगे थे। यहां तक कुछ क्रिकेट के पंडितों ने धोनी को कप्तानी छोडऩे की सलाह दे डाली थी। लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन टी-20 मैचों की सीरीज में हमें फिर से पुराने वाले कैप्टन कूल की झलक नजर आई। धोनी की कप्तानी में हम 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप, 2011 में वर्ल्ड कप जीत ही चुके हैं और अब बारी है 2016 टी-20 वर्ल्ड कप की। धोनी का फील्ड सेटेलमेंट और फिर टीम इंडिया की चुस्त फील्डिंग भी धोनी की कप्तानी को बल देती है।

3. होम कंडीशन: टी-20 वर्ल्ड कप की मेजबानी भारत के हाथों में है ऐसे में टीम को प्रशंसकों का पूरा सपोर्ट मिलेगा। घरेलू मैदानों में खेलना किसी भी टीम के लिए प्लस प्वॉइंट होता है। भारत को सरजमीं पर हराना किसी भी विरोधी टीम के लिए आसान नहीं होगा। अपेक्षाओं के दबाव को फैन्स अपने सपोर्ट से कम भी करेंगे। धोनी पहले ही कह चुके हैं तैयारी कर लो... तो फिर देर किस बात की आप भी तैयारी करके बैठिए हर जीत का जश्न मनाने की।

4. अश्विन और जडेजा की जोड़ी: आर अश्विन और रवींद्र जडेजा की जोड़ी किसी भी विरोधी टीम के बैटिंग ऑर्डर को ध्वस्त करने का माद्दा रखती है। गेंदबाजी लंबे समय से टीम इंडिया का सिरदर्द बनी हुई थी लेकिन अश्विन और जडेजा ने पिछले कुछ समय में बहुत प्रभावित किया है। अश्विन तो इन दिनों जबर्दस्त फॉर्म में हैं। जसप्रीत बुमराह तेज गेंदबाजी आक्रमण में जान फूंकते नजर आने लगे हैं। आशीष नेहरा के साथ मोहम्मद शमी की वापसी भी तेज गेंदबाजी को धार देती है।  

5. बल्लेबाजों का फॉर्म में होना: टॉप ऑर्डर में शिखर धवन, रोहित शर्मा, विराट कोहली। मिडिल ऑर्डर में अजिंक्य रहाणे, सुरेश रैना, धौनी, युवराज सिंह, रवींद्र जडेजा और फिर लोअर ऑर्डर में हार्दिक पांड्या, आर अश्विन मौजूद रहेंगे। रोहित, धवन और कोहली तो खतरनाक फॉर्म में चल रहे हैं। धवन की फॉर्म की चिंता ऑस्ट्रेलिया दौरे के साथ खत्म हो गई। रही बात रैना, धौनी और युवी की तो ये तीनों ही बड़े मैच के खिलाड़ी हैं। तीनों ही शानदार फिनिशर हैं और किसी भी समय विरोधी टीम के मुंह से जीत छीन सकते हैं। ऐसे बल्लेबाजी ऑर्डर के साथ हम वर्ल्ड कप जीतने का सपना तो देख ही सकते हैं।