लखनऊ: केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर में आग लगने से 6 की मौत की खबर

लखनऊ(16 जुलाई): उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर में शनिवार शाम भीषण आग लग गई। आग लगने से 6 मरीजों की मौत हो गई। 

- ट्रामा सेंटर के इंचार्ज अविनाश अग्रवाल ने कहा की आग लगने के बाद शिफ्टिंग में अब तक 6 मरीजों की मौत हो गई है। उनका कहना है की ट्रामा सेंटर में न्यूरो सर्जरी में 3 और 3 ट्रामा सेंटर में घायल स्थिति में आग लगने से तुरन्त पहले ही आये थे और वो काफी गंभीर थे इसी दौरान जब उन्हें शिफ्ट किया जा रहा था तो वो दूसरे वार्ड में जाते-जाते उनकी मौत हो गई। मरने वालों की अधिकारिक पुष्टि नहीं।

- दूसरे फ्लोर के आपदा प्रबंधन वॉर्ड में शॉर्ट सर्किट से लगी आग ने तीसरे फ्लोर को भी अपनी चपेट में ले लिया। आग से भी तेज फैली आग की खबर ने पूरे ट्रॉमा को 'ट्रॉमा' में डाल दिया, जो जिस हालत में था अपने मरीज को लेकर बाहर की ओर भागा। इनमें से कई मरीज वेंटिलेटर पर थे।

- आग बुझाने के लिए फायर ब्रिगेड की 10 गाड़ियां मौके पर पहुंचीं, लेकिन पांच घंटे बाद ही आग पर काबू पाया जा सका। ट्रॉमा सेंटर में फायर फाइटिंग के लिए लगी कोई भी मशीन आग लगने के बाद काम नहीं आई न ही कोई फायर अलार्म बजा।

- शाम करीब सात बजे ट्रॉमा सेंटर के दूसरे तल पर अचानक लपटें उठने लगीं। इससे पहले कि कोई कुछ समझ पाता धुएं और आग की लपटें तीसरे तल पर पहुंच गईं।

- प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, ट्रॉमा के गेट से बाहर आते ही कई मरीजों की हालत बिगड़ने लगी। इनमें ट्रॉमा सेंटर से बाल रोग विभाग में ले जाए गए कई नवजात भी थे। कई परिवारीजनों ने आरोप लगाया कि चौथे तल पर बने एनआईसीयू का नर्सिंग स्टाफ वहां भर्ती नवजातों को अंदर ही छोड़ कर बाहर भाग गया।