पाकिस्तान ने नजरबंदी के बाद हाफिज सईद के विदेश जाने पर लगाई रोक, दर्ज होगी एफआईआर

नई दिल्ली ( 1 फरवरी ): जमात-उद-दावा के सरगना और मुंबई हमले के मास्टर माइंड हाफिज सईद पर पाकिस्तान सरकार ने देश से बाहर जाने पर रोक लगा दी है। हाफिज का नाम देश से बाहर जाने की नियंत्रण सूची में डाला गया है। हाफिज सईद के खिलाफ जल्द ही मुकदमा दर्ज किया जाएगा। यह जानकारी पाकिस्तान सरकार के वाणिज्य मंत्री खुर्रम दस्तगीर ने दी है।

उल्लेखनीय है कि अमेरिकी प्रशासन के जबरदस्त दबाव के चलते हाफिज सईद को 90 दिनों के लिए नजरबंद किया जा चुका है। साथ ही उसके चार साथियों को नजरबंद किया जा चुका है। पाकिस्तान के गृह मंत्रालय ने अपने देश की प्रांतीय सरकारों और संघीय जांच एजेंसी को इस बाबत पत्र लिखा है। इस सूची में जमात-उद-दावा और लश्कर ए तैयबा के सरगना हाफिज सईद समेत 38 लोगों के नाम हैं। बताया जाता है कि यह सभी लोग जमात और लश्कर से जुड़े हुए हैं।

मंत्रालय ने फलाह ए इंसानियत और जमात उद दावा को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के 1267 प्रतिबंध के तहत निगरानी सूची में डाला है। इस सूची में शामिल अब्दुल्लाह उबैद, जफर इकबाल, अब्दुर्र रहमान अबिद और काजी कैशिफ नियाज आतंकी गतिविधियों में बेहद सक्रिय रहे हैं। इसलिए उन्हें एहतियातन बंदी बनाया गया है।

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के कानून मंत्री राणा सनाउल्ला ने कहा है कि आने वाले दिनों में जमात-उ-दावा और फलाह-ए-इंसानियत नाम के संगठनों के और भी कार्यकर्ता गिरफ्तार किये जा सकते हैं। इन पर आतंकवाद निरोधी अधिनियम के तहत कार्रवाई होगी। सनाउल्ला ने साफ किया कि हाफिज सईद की कश्मीर नीति, प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की नीति से बिल्कुल अलग है। उन्होंने कहा कि हम राष्ट्रीय हित से समझौता नहीं करेंगे। इस बीच इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के वरिष्ठ नेता महमूद उर राशिद ने कहा है कि हाफिज को भारत और अमेरिका के दबाव में गिरफ्तार किया गया है, जो गलत है।