आखिरी व्यक्ति तक योजनाओं का लाभ पहुंचाया, भारत में आई आर्थिक क्रांति: पीएम मोदी

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली ( 14 नवंबर ): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आसियान-इंडिया समिट में हिस्सा लेने के लिए सिंगापुर पहुंचे हैं। सिंगापुर में प्रधानमंत्री मोदी ने फिनटेक फेस्टिवल में की-नोट भाषण दिया। प्रधानमंत्री मंगलवार देर रात को ही सिंगापुर रवाना हुए थे, सिंगापुर पहुंच कर उनका वहां जोरदार स्वागत हुआ.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि 2014 में उनकी सरकार के सत्ता में आने के बाद से अब तक भारत डिजिटल इनोवेशन के क्षेत्र में बहुत आगे बढ़ चुका है। सिंगापुर में आयोजित फिनटेक फेस्टिवल को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज भारत दुनियाभर की फिनटेक कंपनियों के लिए बहुत बड़े अवसर का द्वार बन गया है।

मोदी ने कहा, 'हम उस युग में हैं, जहां तकनीक के माध्यम से ऐतिहासिक बदलाव लाया जा रहा है। डेस्कटॉप से लेकर क्लाउड सर्विस तक, आईटी सेवाओं से लेकर इंटरनेट तक, हम काफी कम समय में काफी आगे आ चुके हैं। कारोबारों में हर दिन उथल-पुथल मची हुई है। वैश्विक अर्थव्यवस्था का चरित्र बदल रहा है। तकनीक से इस नई दुनिया में प्रतियोगिता और पावर की परिभाषा में बदलाव आ रहा है और इससे लोगों के जीवन में बदलाव के कई अवसर पैदा हो रहे हैं।'

प्रधानमंत्री ने अपनी सरकार में जनधन योजना के जरिए बड़े पैमाने पर हुए वित्तीय समावेशन का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, '1.3 अरब लोगों के लिए वित्तीय समावेशन एक सच्चाई बन चुका है। हमने आधार के जरिए 1.2 अरब बायोमेट्रिक आइडेंटिफिकेशन तैयार किए हैं। आधार और जन-धन के जरिए हमने 330 लाख नए बैंक अकाउंट खोले हैं। 2014 में 50 प्रतिशत से भी कम भारतीयों के पास बैंक अकाउंट थे, आज स्थिति काफी अलग है।'

अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने कहा कि डिजिटल की मदद से ही हमने अपने हजारों-करोड़ रुपये बचाए जो पहले लीकेज में बर्बाद होते थे। आयुष्मान भारत की योजना 50 करोड़ लोगों को मुफ्त में मेडिकल सुविधा मिलेगी, मुद्रा योजना के कारण आज करोड़ों लोगों ने अपना बिजनेस शुरू किया है। हमने सबसे अधिक लोन महिलाओं को दिया है। उन्होंने कहा कि आज भारत में पोस्टऑफिस भी बैंक बन गए हैं, जो लोगों की मदद कर रहे हैं।

पीएम ने कहा कि फिनटेक फेस्टिवल विश्वास का उत्सव है। यह इनोवेसन में विश्वास का, कल्पना शक्ति में विश्वास का, युवाओं की ऊर्जा में विश्वास का और दुनिया को बेहतर बनाने के विश्वास का उत्सव है। उन्होंने कहा, 'सिंगापुर अब वित्तीय सेवाओं का हब बन चुका है, पिछले वर्ष जून में मैंने यहां से रुपे कार्ड लॉन्च किया था। साथ ही, यूनिफाइट पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) आधारित भारत इंटरफेस फॉर मनी (भीम) की भी शुरुआत की, जो आज बड़ी तेजी से आगे बढञ रही है।'

उन्होंने कहा कि जिनके पास मोबाइल और इंटरनेट है, उनके लिए भीम-यूपीआई एक सिंपल और साधारण सा जरिया है जिसके माध्य्म से बैंक अकाउंट और वर्चुअल पेमेंट अड्रेस के बीच पैसे भेजे जा सकते हैं। जिनके पास मोबाइल है, लेकिन इंटरनेट नहीं है, उनके पास 12 भाषाओं में काम करने वाला USSD सिस्टम है।

मोदी ने कहा कि भारत अलग-अलग परिस्थितियों वाला और अलग चुनौतियों वाला देश है। हमारे सुझाव और हल भी अलग होने चाहिए। डिजीटाइजेशन एक सफलता है क्योंकि हमारे पेमेंट प्रॉडक्ट्स हर किसी की जरूरत का ध्यान रखते हैं। 2014 में मेरी सरकार प्रत्येक नागरिक के सम्मिलित विकास के मिशन से आई थी, जिससे हम दूर-दराज के इलाके में रहने वाले नागरिक के भी जीवन में बदलाव ला सकें।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार की प्राथमिकता है- अंत्योदय के जरिए सर्वोदय। उन्होंने कहा कि इसका मतलब है- अंतिम कतार में खड़े व्यक्ति से लेकर हरेक नागरिक के जीवन में उजाला लाने की दिशा में प्रयास।