देश छोड़ने से पहले वित्त मंत्री से मिला था: विजय माल्या

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (12 सितंबर): भारतीय बैंकों से लोन लेकर लंदन में बैठे शराब कारोबारी विजय माल्या एक बयान देकर राजनैतिक गलियारों में हड़कंप मचा दिया है। माल्या ने कहा है कि वह भारत छोड़ने से पहले वह सेटलमेंट को लेकर वित्त मंत्री से मिले थे, लेकिन बैंकों ने मेरे सेटलमेंट प्लान को लेकर सवाल खड़े किए। अब विजय माल्या बकाया चुकाने को भी तैयार है।

जिस समय माल्या देश छोड़कर गए, उस समय अरुण जेटली वित्त मंत्री थे। लंदन स्थित वेस्टमिंस्टर कोर्ट में माल्या के प्रत्यर्पण पर सुनवाई हो रही है और इसी कड़ी में भारत के अधिकारियों ने मुंबई की आर्थर रोड जेल में उनको रखने के लिए तैयार सेल का विडियो पेश किया। माल्या ने कहा कि वह कोर्ट में दिखाए गए जेल के विडियो को देखकर प्रभावित हैं और अपने बकाए को सैटल करने के लिए उन्होंने बैंकों को कई बार पत्र लिखे थे, लेकिन बैंकों ने उनके पत्रों पर सवाल खड़े किए थे।


माल्या ने कहा कि निश्चित तौर पर उनपर जो आरोप लगाए गए हैं, वह उनसे सहमत नहीं हैं। इसके अलावा इस बारे में कोर्ट ही अंतिम फैसला लेगी। आपको बता दें कि माल्या पिछले साल अप्रैल में जारी प्रत्यर्पण वॉरंट के बाद से जमानत पर है। उसपर भारत में करीब 9,000 करोड़ रुपये के धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप हैं।

माल्या को देश वापस लाने के बाद मुंबई की आर्थर रोड जेल की बैरक 12 नंबर में रखा जाएगा, जिसको जेल प्रशासन ने कुछ यूं सवारा है कि देश तो क्या दुनिया के लोग उसकी सफाई और व्यवस्था की सराहना करें। कहा जा रहा है कि भगोड़े कारोबारी विजय माल्या की ओर से लंदन में भारत की जेलों की हालत खराब होने के तर्क की काट के लिए यह किया गया है।