थलसेना को पहली बार मिलेंगे हमलावर अपाचे हेलिकॉप्टर

नई दिल्ली (18 अगस्त): आर्मी और एयरफोर्स के बीच कई सालों तक चली 'खींचतान' के बाद इंडियन आर्मी को पहली बार खुद के अटैक हेलिकॉप्टर मिलने वाले हैं। रक्षा मंत्रालय में काफी समय से लंबित 6 अपाचे अटैक हेलिकॉप्टरों की खरीद को मंजूरी दे दी गई। मंत्रालय में फैसला लेने वाली सर्वोच्च संस्था रक्षा खरीद परिषद ने 4168 करोड़ रुपए के नए सौदे को हरी झंडी दी। ये हेलिकॉप्टरों में हेलफायर और स्टिंगर जैसे घातक मिसाइलों से लैस होंगे। चीन के साथ डोकलाम को लेकर जारी तनातनी के बीच इस मंजूरी को काफी अहम माना जा रहा है।

2015 में अमेरिकी कंपनी बोइंग से 22 अपाचे हेलिकॉप्टरों की खरीद को मंजूरी दी गई थी। ये हेलिकॉप्टर वायुसेना को दिए गए थे। इस सौदे के प्रावधानों के तहत 11 और हेलिकॉप्टर खरीदे जा सकते थे। इसी के तहत भारतीय सेना ने अपने लिए हेलिकॉप्टरों की मांग की थी। आर्मी के पास अब तक बिना हथियार वाले हेलिकॉप्टर रहे हैं। अब वह हथियारबंद हेलीकॉप्टर चाहती है। अपाचे हेलीकॉप्टर मिसाइल और रेडार से लैस होते हैं। रक्षा मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता वाली रक्षा खरीद परिषद की बैठक में यह मंजूरी प्रदान की गयी।