जवानों ने देखी जॉन अब्राहम की फिल्म 'परमाणु', रखी गई थी स्पेशल स्क्रीनिंग

नई दिल्ली ( 29 मई ): मंगलवार को जवानों ने फिल्म परमाणु देखी। मुंबई के कुर्ला में एक थिएटर में सेना के जवानों के लिए फिल्म परमाणु: द स्टोरी आॅफ पोखरण की स्पेशल स्क्रीनिंग रखी गई थी। सभी जवानों ने फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान गाया। साथ ही जवानों ने भारत माता की जय और वंदेमातरम के नारे भी लगाए।  निर्देशक अभिषेक शर्मा और जॉन अब्राहम की 'परमाणु: द स्टोरी ऑफ पोखरण' साल 1998 में किए गए परमाणु परीक्षणों पर आधारित है। फिल्म में जॉन अब्राहम के अलावा डायना पैंटी भी अहम किरदार में हैं। 'परमाणु' फिल्म की शूटिंग साढ़े तीन महीने में खत्म कर लिया गया था। फिल्म में बमन ईरानी भी हैं। फिल्म सच्ची घटनाओं पर आधारित है लेकिन इसके कैरेक्टर काल्पनिक हैं।'परमाणु' की कहानी 11 और 13 मई 1998 के पोखरण न्यूक्लियर टेस्ट के इर्द -गिर्द घूमती है। जहां अमेरिका को गच्चा देकर भारत एक न्यूक्लियर देश के तौर पर उभरा है।फ़िल्म का एक डायलॉग है- "हीरो वर्दी से नहीं इरादे से बनते हैं।" जॉन जिस किरदार में हैं वो वैज्ञानिकों और सैनिकों के साथ गुप्त तरीके से परमाणु परीक्षण करता है और अपने इरादे से देश को न्यूक्लियर स्टेट का दर्जा दिलाता है।परमाणु हथियारों की दौड़ में भारत उस समय काफी पीछे था। अमरीका अपने सैटेलाइट के जरिए अन्य देशों पर नज़र रख रहा था। भारत भी उसके सर्विलांस पर था।