मुंबई हमलों पर नवाज शरीफ के कबूलनामे के खिलाफ लाहौर हाई कोर्ट में देशद्रोह की याचिका दाखिल

नई दिल्ली (15 मई): पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के साल 2008 के मुंबई हमलों को लेकर विवादित बयान देने के बाद  खिलाफ लाहौर उच्च न्यायालय (एलएचसी) में सोमवार को देशद्रोह की एक याचिका दाखिल की गई है। यह याचिका राजनीतिक दल, पाकिस्तान अवामी तहरीक (पीएटी) के खुर्रम नवाज गंडपुर द्वारा दाखिल की गई है। इसमें कहा गया है कि शरीफ का बयान राष्ट्रीय सुरक्षा और राज्य के संस्थाओं के खिलाफ है। याचिका में कहा गया है, "नवाज शरीफ का बयान देशद्रोह के समान है। उनके खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज करने का निर्देश दिया जाना चाहिए।" एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रपट के मुताबिक, याचिका में शरीफ के अलावा संघीय गृहमंत्री एहसान इकबाल को भी एक पक्ष के रूप में शामिल किया गया है।

पूर्व प्रधानमंत्री ने 12 मई को डॉन के साथ एक साक्षात्कार के दौरान कबूल किया था कि आतंकवादी संगठन पाकिस्तान में सक्रिय हैं और इस तरह के आतंकवादी हमले (26/11) रोके जा सकते थे। इस हमले में करीब 166 भारतीय व विदेशी नागरिक मारे गए थे।