Blog single photo

धनतेरस स्पेशल: 100 साल बाद धनतेरस पर बना शुभ महसंयोग

त्योहारों की रौनक पूरे देश में देखी जा रही है, धनतेरस,छोटी दीवाली,दीवाली जैसे त्योहार करीब हैं। लोग त्योहारों की तैयारी में जुट गए। और लक्ष्मी मां को प्रसन्न करनी की भी पूरी तैयारी की जा रही है। आज देशभर में धनतेरस का पर्व मनाया जा रहा है। ये पर्व प्रदोषव्यापिनी तिथि में मनाने का विधान है

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (25 अक्टूबर):  त्योहारों की रौनक पूरे देश में देखी जा रही है, धनतेरस,छोटी दीवाली,दीवाली जैसे त्योहार करीब हैं। लोग त्योहारों की तैयारी में जुट गए। और लक्ष्मी मां को प्रसन्न करनी की भी पूरी तैयारी की जा रही है। आज देशभर में धनतेरस का पर्व मनाया जा रहा है। ये पर्व प्रदोषव्यापिनी तिथि में मनाने का विधान है। इस दिन परिवार में आरोग्यता के लिए घर के मुख्य दरवाजे पर यमदेव का स्मरण करके दक्षिण मुख अन्न आदि रखकर उस पर दीपक स्थापित करना चाहिए।कुछ ज्योतिषी कह रहे हैं कि 100 साल बाद धनतेरस पर बेहद शुभ संयोग बना हुआ है। जबकि पंचांग उठाकर देखें तो पाएंगे कि धनतेरस पर महज 3 साल बाद ही वो शुभ संयोग बना है जो बेहद शुभ फलदायी है।

दरअसल कहा जा रहा है कि 100 साल बाद धनतेरस शुक्रवार को शुक्र प्रदोष में मनाया जाएगा। जबकि 2016 में 28 अक्टूबर को धनतेरस मनाया गया था। उस दिन भी शुक्रवार और शुक्र प्रदोष में ही यह त्योहार मनाया गया था।  लेकिन इस साल मनाया जाने वाला धनतेरस और भी शुभ संयोग लेकर आया है। इस साल धमतेरस पर ब्रह्म और ऐन्द्र योग का संयोग बना है। यह संयोग समृद्धि कारक है। इस योग के साथ इस वर्ष सर्वार्थसिद्धि योग भी बना है जो धनतेरस के शुभ मुहूर्त के लिए सोने पर सुहागा है।

शुक्रवार की स्वामिनी देवी लक्ष्मी हैं। ऐसे में धनतेरस के अवसर पर देवी लक्ष्मी और गणेश की चांदी की प्रतिमा, चांदी के बर्तन खरीदना बेहद शुभ फलदायी होगा।

(Image Credit: Google)

Tags :

NEXT STORY
Top