फेडरल एलायंस ने नेपाल सरकार का प्रस्ताव ठुकराया, कट्टर माओवादी भी साथ आये

नई दिल्ली (22 मई):  नेपाल के हार्ड कोर माओवादी नेता मोहन वैद्या की पार्टी भी फेडरल एलायंस के सरकार विरोधी प्रदर्शन में शामिल हो गयी है। पार्टी के मुख्यालय पर एक प्रेस कॉंफ्रेंस में मोहन वैद्या ने कहा कि उनकी पार्टी मधेसियों, थारू और अन्य राष्ट्रवादी जनजातीय पार्टियों की उचित मांगों का समर्थन करती है। इसलिए उनके प्रदर्शन में शामिल हो रही है। उन्होंने कहा इन्हीं सब मांगों को लेकर पार्टी अलग से भी विरोध प्रदर्शन चालएगी। पार्टी में हुए दो फाड़ के बाद आगे की रणनीति तैयार करने के लिए 19 जून को राष्ट्रीय सम्मेलन बुलाया गया है। उन्होंने कहा राम बहादुर थापा और उनके समर्थकों ने प्रचण्ड के आगे समर्पण कर दिया है। इससे उनका कुछ भला नहीं होने वाला।

उधर, बुध जयंती के समापन समारोह में नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने कहा संविधान संशोधन से संबंधित सभी सुझावों को सम्मिलित कर लिया गया है। ये समस्या सुलझ चुकी है। उनके इस बयान के विपरीत सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने संविधान समस्या के हल के लिए फेडरल एलायंस और मधेसी नेताओँ को एक बार फिर आमंत्रित किया है। लेकिन, सरकार के प्रस्ताव फेडरल एलायंस के नेता उपेन्द्र यादव ने ठुकरा दिया है। उन्होंने कहा है कि सरकार पहले सभी दलों के साथ मिल कर स्थाई राजनीतिक निर्णय करे और इसका लिखित आश्वसन दे, तभी वार्ता के बारे में विचार किया जायेगा।