मोदी सरकार से डरीं मेडिकल डिवाइस कंपनियां, कम करेंगी कीमत


नई दिल्ली ( 2 सितंबर ): आम आदमी को सस्ता और पुख्ता इलाज मिल सके, इसके लिए केंद्र सरकार ने कमर कस ली है। सरकार ने  मेडिकल डिवाइस के दामों को कंट्रोल करने की दिशा की तरफ कदम बढ़ा लिए हैं। 

सरकार मेडिकल डिवाइसेस पॉलिसी लाने जा रही है। सरकार के इस फैसले से देश के 125 करोड़ लोगों को फायदा होगा। जल्द ही इलाज के दौरान प्रयोग किए जाने वाले महंगे मेडिकल डिवाइसेस से लोगों को राहत मिल सकती है। बाईपास सर्जरी में प्रयुक्त होने वाले स्टेंट और घुटने का प्रत्यारोपण करने पर सरकार लोगों को राहत देने के बाद नया कानून बनने जा रही है जिससे अन्य मेडिकल डिवाइसेस भी सस्ते हो जाएंगे। सरकार ने नेशनल मेडिकल डिवाइसेस पॉलिसी का ड्राफ्ट तैयार किया है, जिससे 80 फीसदी से विदेश से इंपोर्ट होने वाले इस तरह के उपकरण के दाम कम हो सकेंगे।

 लेकिन अब केंद्र सरकार के इस कदम से डरीं मेडिकल डिवाइस कंपनियां खुद ही इसकी कीमत करने का प्रस्ताव तैयार किया है। एक अंग्रेजी अखबार के मुताबिक सरकार के इस फैसले के बाद अब कुछ मेडिकल डिवाइसेस कंपनियों ने खुद सरकार को मेडिकल डिवाइस की कीमत कम करने का प्रस्ताव तैयार किया है। 

दामों को कंट्रोल करने करने वाली नेशनल फार्मासूटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (NPPA) को कुछ मेडिकल डिवाइस कंपनियों ने इस बारे में पत्र लिखकर ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट के तहत आने वाले मेडिकल डिवाइस की कम कीमत करने का प्रस्ताव दिया है।