'छोटू' ने उड़ाई पाकिस्तान की नींद, खत्म करने के लिए भेजी सेना

लाहौर (20 अप्रैल): पाकिस्तान इन दिनों डकैतों के एक गिरोह से काफी परेशान है। पाकिस्तान के राजनपुर ज़िले में छोटू गैंग डकैत के गिरोह ने पुलिस की नाक में दम कर रखा है। पाकिस्तान ने उससे निपटने में अपनी पूरी ताक़त झोंक दी है और कई दिनों से चल रहे ऑपरेशन के बाद भी उसे कोई कामयाबी नहीं मिली है।

पाकिस्तानी फौज कई दिनों से सिंध नदी में बने टापू पर बदमाशों के एक गिरोह से मुक़ाबला कर रही है। इस काम में सेना के हेलिकॉप्टर भी लगे हैं। इस गिरोह का सरगना है गुलाम रसूल उर्फ छोटू। इस गिरोह ने 24 पुलिसवालों को अगवा कर लिया था, जिनमें से सात की मौत हो गई है। छोटू गैंग को हथियार डालने के लिए सोमवार दोपहर तक की मोहलत दी गई थी जिसके पूरा होने के बाद अब सेना के पास कार्रवाई करने के अलावा कोई चारा नहीं है।

सिंधु नदी में कच्चे के इलाक़े में दस किलोमीटर चौड़े टापू पर छोटू गैंग का कब्ज़ा है, वहाँ ऑपरेशन शुरू करने के बाद दोनों तरफ़ से गोलीबारी हुई। छोटू गैंग के ठिकानों को हेलिकॉप्टर की गोलाबारी का भी निशाना बनाया गया है। ग़ुलाम रसूल को ये नाम गिरोह के पूर्व सरग़ना बाबा लवांग ने दिया था। जब वो इस गिरोह में शामिल हुआ तो उसकी उम्र काफी कम थी।

छोटू गैंग डाकुओं का एक गिरोह है। ये गिरोह पंजाब प्रांत में सिंध नदीं में बने एक टापू से अपना काम करता है। छोटू गैंग इस इलाक़े में एक दशक से भी ज़्यादा समय से सक्रिय है। कुछ लोगों का मानना है कि इस गैंग में तीन सौ से ज़्यादा लोग शामिल हैं। पंजाब प्रांत के डेरा ग़ाज़ी ख़ान और सिंध प्रांत के काशमोर के क़रीब डेढ़ सौ किलोमीटर के इलाक़े में सक्रिय डकैतों में छोटू गैंग एक नामी गैंग है।

ये गिरोह आपस में जुड़े हैं और तस्करी, फिरौती के लिए अपहरण और हाइवे पर लूटपाट में शामिल हैं। छोटू गैंग का राजनपुर में नदी में बने कई टापुओं पर नियंत्रण है, जहां घने जंगल हैं। ये टापू पंजाब प्रांत के राजनपुर और सिंध प्रांत के रहीमयारख़ान और काशमोर ज़िले में आते हैं। पाकिस्तान ने इस डकैत से निपटने के लिए अपनी पूरी पुलिस फोर्स झोंक दी है। लेकिन कई दिनों से चल रहे इस ऑपरेशन में उसे कोई कामयाबी हाथ नहीं लगी है।