बाबा रामदेव के प्रोडक्ट को लेकर फतवा जारी

नई दिल्ली (19 मई): बाबा रामदेव के पंतजलि के उत्पादों को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। बरेली में दरगाह अलाहजरत की ओर से पंतजलि उत्पादों के खिलाफ फतवा जारी किया गया है।

रामदेव ने यूपी के सीएम अखिलेश यादव तथा समाजवादी पार्टी के प्रमुख मुलायम सिंह से मिलकर बुंदेलखंड में पतंजलि उत्पादों के लिए जड़ी-बूटियां, एलोविरा व फल-सब्जियां उगाने के लिए बांधों के इर्द-गिर्द की जमीन मांगी थी, जिस पर सीएम ने जमीन देने का भी आश्वासन दिया था। उसके अगले ही दिन इस तरह के फतवे जारी होने को राजनीति से जोड़कर भी देखा जा रहा है।

बरेली दरगाह आला हजरत के मरकजी दारुल इफ्ता ने पतंजलि उत्पादों के खिलाफ जारी फतवे में कहा है कि पेशाब नापाक है, अगर इसका इस्तेमाल दवा में भी किया जाता है तो दवा भी नाजायज और हराम है। मरकजी दारुल इफ्ता से मुहम्मद बख्तयार खां ने पतंजलि कंपनी के उत्पादों के बारे में पूछा था, उनका आरोप है कि इस कंपनी में जितने भी उत्पाद बनाए जाते हैं सभी में गौ मूत्र मिलाया जाता है

मरकजी दारुल इफ्ता के सदर मुफ्ती मुहम्मद हकीम मुजफ्फर हुसैन कादरी और मुफ्ती मुहम्मद अली रजवी ने कहा कि पतंजलि हो या कोई और कंपनी अगर गाय के पेशाब की मिलावट किसी भी उत्पाद में है तो वह हराम है। फतवे में ऐसे उत्पाद का खाना-पीना और लगाना भी हराम करार दिया गया है।