घर में नहीं था खाना, भूख से रो रहे थे बच्चे तो नहीं देख पाया बाप और खाया जहर

नई दिल्ली (18 सितंबर): एक बार फिर ऐसी खबर सामने आई है, जिसको पढ़ने के बाद हम थोड़े समय के लिए दुखी होंगे लेकिन फिर भूलकर अपने काम में लग जाएंगे। हालांकि हमारी सरकारें तो इस बारे में जानना भी नहीं चाहती। परन्तु हर हिंदुस्तानी का चैनल होने के नाते हमारा धर्म है कि हम हर उस एक खबर को आपतक पहुंचाए जिससे इंसान और इंसानिसत का सरोकार है।

खबर मध्य प्रदेश से है, जहां तंगहाली में जी रहे एक पिता से जब अपने बच्चों की भूख देखी नहीं गई, तो उसने जहर पीकर अपनी जिंदगी खत्म करने की कोशिश की। घायल पिता का अस्पताल में इलाज जारी है। घटना मध्य प्रदेश के बैतूल की है। पड़ोसियों के मुताबिक, लखन और उसकी पत्नी भीख मांगकर गुजारा करते हैं और अपने परिवार का पेट पालते हैं। रविवार के दिन जब लखन की पत्नी भीख मांगने के लिए घर से निकली तो घर पर बच्चे भूख की वजह से रोने लगे।

गरीबी का सितम देखिए, उस वक्त लखन के घर में अन्न का एक दाना तक नहीं था। लखन की तंगहाली का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसके पास उस वक्त रोटी खरीदने तक के पैसे नहीं थे। भूख से बिलबिलाते बच्चों को देख लखन से रहा नहीं गया और उसने मजबूरन जहर पी लिया।

लखन की पत्नी जब घर वापस आई तो पति को जमीन पर बेहोश पड़ा देख सन्न रह गई। आनन-फानन में पड़ोसियों ने लखन को अस्पताल पहुंचाया, जहां उसका इलाज जारी है। फिलहाल लखन की हालत खतरे से बाहर है।