इस खबर को पढ़कर कांप उठेगी आपकी रूह...

नई दिल्ली (13 जून): भले ही हम 21वीं सदी में प्रवेश कर चुके हैं, लेकिन हमारे समाज में तरह-तरह की अंधविश्वास एवं सामाजिक कुरीतियां अभी भी जड़ जमाए हुए हैं। ऐसा ही अंधविश्वास का एक मामला जालंधर में सामने आया है, जहां एक पिता और बच्चा अग्नि परीक्षा देते झुलस गए।

दरअसल, दक्षिण भारत का प्रसिद्ध मां मारी अम्मा का मेला आज सम्पन्न हुआ। इस मेले में बनाए गए 20 फुट लम्बे और 3 फुट चौड़े अग्निकुंड में सैंकड़ों की गिनती में विभिन्न समुदाय के लोग अग्नि परीक्षा से निकले। लोग इसे शुभ मान कर इन अंगारों से गुजरे और उनका कहना था कि इस तरीके से मन्नते मांगी जाती है।

इस दौरान एक पिता अपने बेटे को उठाकर अंगारों से निकल रहा था कि उसका पैर फिसल गया। इस हादसे में बच्चे के कान और पीठ झुलस गए। वहां मौजूद लोगों ने काजी मंडी में ही एक घर में मरहम पट्टी कर दी, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में पहुंचाया गया।