Blog single photo

31 दिसंबर से सभी वाहनों पर फास्टैग जरूरी, बिना टैग के टोल क्रॉस नहीं कर पायेंगे

जब फास्टैग लगा वाहन टोल प्लाजा से गुजरता है तो वहां लगा उपकरण चालक के खाते से आटोमैटिक ढंग से टोल काट लेता है। इस व्यवस्था ने कैश में भुगतान के झंझट पूरी तरह खत्म कर दिया है। अक्टूबर'19 में फास्टैग लगे वाहनो से 3.1 करोड़ से अधिक फेरों में 702.86 करोड़ रुपये का टोल वसूला गया।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (2 नवंबर): कैश के बगैर इलेक्ट्रानिक ढंग से टोल की अदायगी के लिए जरूरी फास्टैग शीघ्र ही पेट्रोल पंपों पर भी मिलेगा और इससे पेट्रोल व पार्किंग शुल्क का भुगतान भी किया जा सकेगा। यही नहीं, स्टेट हाईवे तथा शहरी टोल प्लाजाओं पर भी फास्टैग के माध्यम से टोल स्वीकार किया जाएगा। सरकारी एजेंसियां जोर-शोर से इसकी तैयारियों में जुटी हैं। नेशनल इलेक्ट्रानिक टोल कलेक्शन प्रोग्राम के तहत सरकार ने 31 दिसंबर, 2019 से पूरे देश में सभी प्रकार के मोटर वाहनों में फास्टैग लगाना जरूरी हो जायेगा। इसे देखते हुए सरकार ने फास्टैग की उपलब्धता बढ़ाने के इंतजाम किए हैं ताकि अंतिम समय में अचानक भीड़ बढ़ने से दिक्कत न हो।

फास्टैग इस्तेमाल में आसान एक साधारण रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआइडी) टैग है जिसे वाहन के आगे के शीशे यानी विंडशील्ड पर चिपकाना पड़ता है। जब फास्टैग लगा वाहन टोल प्लाजा से गुजरता है तो वहां लगा उपकरण चालक के खाते से आटोमैटिक ढंग से टोल काट लेता है। इस व्यवस्था ने कैश में भुगतान के झंझट पूरी तरह खत्म कर दिया है। अक्टूबर'19 में फास्टैग लगे वाहनो से 3.1 करोड़ से अधिक फेरों में 702.86 करोड़ रुपये का टोल वसूला गया। इससे पहले सितंबर'19 में 29.01 फेरों में 658.94 करोड़ रुपये टोल की वसूली की गई थी। फिलहाल इस प्रणाली से जुड़े 23 बैंक फास्टैग इश्यू कर रहे हैं। जबकि 10 बैंक फास्टैग का भुगतान प्राप्त कर रहे हैं। 

पहली दिसंबर, 2017 से देश में बनने वाली सभी नई कारों में फास्टैग लगकर आ रहा है। अभी अधिकृत बैंक शाखाओं के अलावा टोल प्लाजाओं, रिटेल पीओएस लोकेशंस के अलावा बैंकों व ई-कामर्स वेबसाइटों तथा माई फास्टैग ऐप के माध्यम से फास्टैग खरीदा जा सकता है। साथ ही कम से कम 100 रुपये की राशि से रिचार्ज कराया जा सकता है। जल्द पेट्रोल पंपों पर भी फास्टैग मिलेगा। यही नहीं, इसके जरिए टोल ही नहीं, बल्कि पेट्रोल-डीजल-सीएनजी और पार्किंग शुल्क का भुगतान भी संभव होगा। इलेक्ट्रानिक टोल कलेक्शन को बढ़ावा देने के लिए एनपीसीआइ ने 31 मार्च, 2020 तक फास्टैग का उपयोग करने पर 2.5 प्रतिशत कैशबैक की व्यवस्था की है। इसके तहत जब कोई वाहन चालक इलेक्ट्रानिक टोल प्लाजा से गुजरेगा, उसके खाते से टोल की राशि कट जाएगी। परंतु कुछ सेकंड बाद बाद 2.5 फीसद राशि खाते में वापस आ जाएगी। चालक के पंजीकृत मोबाइल नंबर पर इसका एसएमएस आता है।

Images Courtesy:Google

Tags :

NEXT STORY
Top