फारूक अब्दुल्ला का बड़ा बयान, बोले- केंद्र सरकार के गुलाम हैं जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल

                                                                                          Photo: ANI

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 नवंबर): जम्मू-कश्मीर नैशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने विधानसभा भंग करने के फैसले को लेकर गवर्नर सत्यपाल मलिक को जमकर निशाने पर लिया है। उन्होंने कहा कि वह (सत्यपाल मलिक) केंद्र सरकार के 'गुलाम' बनकर रह गए हैं। बुधवार शाम को पीडीपी के नैशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस से गठबंधन कर सरकार बनाने की सुगबुगाहट के बीच ही सत्यपाल मलिक ने विधानसभा भंग करने का ऐलान कर दिया था। 

                                                                                         Photo: ANI

फारूक अब्दुल्ला ने कहा, 'मुझे इन राज्यपाल से काफी उम्मीदें थीं, लेकिन यह बहुत बुरा हुआ है। वह केंद्र सरकार के गुलाम बनकर रह गए हैं। गवर्नर के पद पर फिर से विचार किए जाने की जरूरत है। विधानसभा भंग करने के लिए उन्होंने 5 महीने इंतजार क्यों किया?'  


                                                                                             Photo: ANI

बीजेपी महासचिव राम माधव द्वारा कथित तौर पर पीडीपी और एनसी के गठबंधन को 'पाकिस्तान प्रायोजित' करार दिए जाने पर फारूक अब्दुल्ला ने कहा, 'पीडीपी जब तक बीजेपी के साथ गठबंधन में थी तब तक वह आतंकवाद फ्रेंडली नहीं थी। कांग्रेस और एनसी के साथ गठबंधन की बात करने पर वह आतंकवाद फ्रेंडली हो गई?' बता दें कि बुधवार को जम्मू-कश्मीर में गैर बीजेपी दलों की सरकार बनाने की कोशिशों के बीच राज्यपाल ने विधानसभा भंग कर दी थी। इसके बावजूद कांग्रेस, पीडीपी और एनसी सरकार बनाने के लिए तैयार हैं और राज्यपाल के फैसले को कोर्ट में चुनौती देने की बात कही है।