इंदौर: 400 ट्रैक्टर-ट्रक उपज लेकर मंडी पहुंचे किसान, व्यापारियों ने नहीं किए सौदे


इंदौर(14 जून): मंडियों में किसानों से समर्थन मूल्य पर उपज की खरीदी और नकद भुगतान संबंधी आदेश से नाराज अनाज व्यापारियों ने दूसरे दिन भी खरीदी नहीं की। मंगलवार को लक्ष्मीबाई अनाज मंडी, छावनी अनाज मंडी में 400 से ज्यादा ट्रैक्टर-ट्रक में प्याज, गेंहूं, सोयाबीन, चना व अन्य उपज लेकर किसान पहुंचे थे। अनाज-तिलहन व्यापारी संघ और मप्र दाल उद्योग महासंघ ने सरकार के दोनों फैसलों को गलत बताया और इन्हें वापस लेने की मांग की। बुधवार को भी अनाज मडियां बंद रहेंगी।

   

- अनाज-तिलहन व्यापारी संघ के पदाधिकारियों ने शाम को बैठक की, जिसमें सभी सदस्यों ने कहा- जब तक सरकार नकद भुगतान और समर्थन मूल्य से कम पर खरीदी की शर्त नहीं हटाएगी तब तक हम खरीदी नहीं करेंगे। मप्र दाल उद्योग महासंघ के अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने कहा मुख्यमंत्री की घोषणा से प्रदेश की सभी अनाज मंडियों के व्यापारियों में नाराजगी है। प्रदेश के सारे व्यापारी और दाल मिलर्स माल खरीदकर प्रदेश के साथ दूसरे राज्यों में बेचते हैं। ऐसे में किसानों से माल समर्थन मूल्य पर खरीदकर उसे ऊंची कीमत में कहीं भी बेच पाना संभव नहीं है। सरकार निर्णय वापस ले।


- भाजपा ने शाम को अनाज तिलहन व्यापारी संघ के अध्यक्ष मनोज काला, सचिव सुनील जैन, मप्र दाल उद्योग महासंघ के सुरेश अग्रवाल, सकल अनाज दलहन-तिलहन व्यापारी महासंघ के अध्यक्ष गोविंददास अग्रवाल व अन्य पदाधिकारियों के साथ बैठक की। भाजपा नगर अध्यक्ष कैलाश शर्मा, वरिष्ठ नेता कृष्णमुरारी मोघे, महापौर मालिनी गौड़ ने व्यापारियों को आश्वासन दिया कि उनकी बात मुख्यमंत्री तक पहुंचाएंगे।