किसान आंदोलन: सड़कों पर फेंकी सब्जियां और दूध, मंदसौर में हाई अलर्ट

भोपाल (1 जून): देशभर में आज से किसान बड़े पैमाने पर 10 दिन के लिए आंदोलन करने जा रहे हैं। किसानों ने आज सुबह ही राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और महाराष्ट्र में किसानों ने प्रदर्शन किया। किसानों ने विरोध में दूध व सब्जियां सड़कों पर फेंकी। किसान आंदोलन के चलते मध्यप्रदेश समेत कई राज्यों में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। इतना ही नहीं मंदसौर में हाईअलर्ट घोषित कर दिया गया है।वहीं खबरें ये भी आ रही हैं कि मध्यप्रदेश में राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा उर्फ कक्काजी ने कहा कि सरकार किसान आंदोलन को हिंसक बनाना चाह रही है। उनका कहना है कि सरकार आंदोलन को हिंसक बनाने के लिए लट्ठ की खरीददारी कर रही है। वहीं किसान मजदूर महासंघ के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा ने व्यापारी वर्ग से किसानों के आंदोलन में सहयोग की अपील की है। उनका दावा है कि देशभर के 130 किसान संगठन इस आंदोलन में हिस्सा ले रहे हैं। हमने इसे "गांव-बंद" का नाम दिया है। फिलहाल, शहरों में नहीं जा रहे हैं।हरियाणा के फतेहाबाद में किसानों ने मिल्क प्लांट के ट्रक को रोककर उसका दूध सड़क पर गिरा दिया। वहीं, जींद में मिल्क प्लांटों पर गांवों से दूध की आवाक बहुत कम रही। कैथल में किसानों ने सब्जियों को सड़क पर फेंककर सरकार के खिलाफ विरोध किया। सिरसा कस्बे के चोपाटा में आंदोलन का व्यापक असर है। कई जिलों में गांवों के बाहर किसान धरना दे रहे हैं।