मध्य प्रदेश-महाराष्ट्र के किसानों का आंदोलन हुआ उग्र, सब्जियों के दाम में लगी आग

नई दिल्ली ( 6 जून ): महाराष्ट्र-मध्य प्रदेश में किसानों के आंदोलन उग्र रूप ले लिया है। प्रदर्शनकारी किसान कहीं सड़क पर दूध बहा रहे हैं तो कहीं सब्जियों को फेंक रहे हैं। किसान और पुलिस के बीच झड़़पें भी हुई हैं। आगजनी और पत्थरबाज़ी की घटनाओं की भी खबरें हैं। ये प्रदर्शन और विरोध दोनों राज्यों में पिछले 6 दिनों से चल रहा है।

महाराष्ट्र में किसानों के प्रदर्शन का आज छठा दिन है। किसानों ने पूरे राज्य में बंद का आह्वान किया है और साथ ही सरकारी दफ्तरों में ताला लगाओ अभियान शुरू करने की घोषणा की है। किसानों के उग्र प्रदर्शन के चलते मुंबई में कई सब्जी विक्रेताओं के ट्रक रास्ते में ही अटक गए हैं और वो मुंबई नहीं पहुंच पा रहे हैं। इससे मायानगरी में सब्जी और फलों की कीमतों पर जबरदस्त असर पड़ा है।

हड़ताल की वजह से अब तक पूरे महाराष्ट्र में 10 लाख लीटर दूध के नुकसान का अनुमान है। किसानों के समर्थन में अब मुंबई के डब्बावाले भी आ गए हैं।

   

किसानों ने नागपुर, नासिक, लातूर, कोल्हापुर और जलगांव में जमकर प्रदर्शन किया। लातूर में हज़ारों लीटर दूध सड़क पर बहाया गया। नागपुर में कई जगह सब्जियां सड़क पर फेंककर विरोध जताया गया। जलगांव में किसान नेताओं ने विरोध प्रदर्शन से पहले जबरदस्ती दुकाने बंद करवा दीं। शिवसेना के नेता भी किसानों के साथ आंदोलन में शामिल हुए। नासिक में किसानों ने सड़क पर भजन कीर्तन और गरबा किया गया। पुणे में जबरन दुकानें बंद कराने को लेकर कई लोगों को हिरासत में भी लिया गया है।

उधर महाराष्ट्र में किसानों के इस उग्र होते प्रदर्शन को लेकर सरकार ने विपक्ष पर सियासत करने का आरोप लगाया है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कहा कि किसानों के नाम पर जो राजनीति हो रही है, वो ठीक नहीं हैं। उन्होंने कहा कि जो वाकई किसान नेता हैं उनसे हम बातचीत करने तैयार हैं पर किसानों के कंधे पर बंदूक रख कर राजनीति करने वालों को किसान ही सबक सिखाएंगे।

केवल महाराष्ट्र में ही नहीं मध्य प्रदेश में भी किसानों का आंदोलन हिंसक हो गया है। रतलाम में किसानों ने गाड़ियों को आग लगा दी। पुलिस ने प्रदर्शनकारी किसानों पर लाठीचार्ज किया और और किसानों को हिरासत में लिया।

दूसरी तरफ नीमच में भी किसानों का आंदोलन उग्र हो गया है। बड़ी संख्या में किसानों ने चक्का जाम किया। पुलिस ने हटाने की कोशिश की तो किसानों ने पुलिस पर ही पत्थरबाजी की जिसके बाद पुलिस को आंसू गैस का इस्तेमाल करना पड़ा। पत्थरबाज़ी में कुछ पुलिसवाले भी जख्मी हो गए।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने भी किसानों के मुद्दे पर राजनीति करने का आरोप लगाया है।