गुजरात के शहीद बेटों के परिवार ने अखिलेश को दिया सीधा जवाब


अहमदाबाद(11 मई): उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि कोई बता दे गुजरात का कोई जवान देश की रक्षा के लिए शहीद हुआ। अखिलेश के इस बयान के बाद प्रतिक्रिया आने लगी हैं। पूर्व मुख्यमंत्री के बयान का गुजरात के शहीद बेटों के परिवार और पूर्व सैनिकों ने सीधे जवाब दिया है।


- 1999 के करगिल युद्ध में शहीद हुए मुकेश राठौड़ की पत्नी राजश्री का कहना है कि अखिलेश का बयान हमारे लिए दिल तोड़ने वाला है। हमने जब से इस बयान के बारे में सुना है तब से इस बारे में बात कर रहे हैं। शहीद किसी एक राज्य के नहीं पूरे भारत देश के होते हैं। किसी जवान को खोना किसी एक राज्य विशेष की नहीं पूरे देश की क्षति होती है। राजश्री ने जब अपने पति को खोया था उस वक्त वह 5 महीने की गर्भवती थीं। आज उनका बेटा मृगेश 17 साल का है।


- शहीद मुकेश की मां सामजुबेन राठौड़ कहती हैं कि जिसने अपना बेटा, पति या पिता खोया हो सिर्फ वही हमारे दर्द को समझ सकता है। मेरा बेटा गुजरात के उन 13 जवानों में से था जिन्होंने करगिल युद्ध में देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान किया था। हमारा दुख और किसी अपने को हमेशा के लिए खो देने के अहसास की तुलना अखिलेश जैसे नेता के बयानों से नहीं की जा सकती है।


- 1987 में सियाचिन ग्लैशियर से पाकिस्तानी सेना को खदेड़ने में शहीद हुए नीलेश सोनी के 65 साल के भाई जगदीश सोनी ने भी इस पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है। उन्होंने कहा कि मेरे लिए यह देखना बहुत दुखद है कि शहीदों को भी राज्यों में बांटकर देखा जा रहा है। मुझे ऐसा लगता है कि अखिलेश यादव को गुजरात के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं है इसलिए उन्होंने ऐसा बेतुका बयान दिया है। पलडी में राज्य सरकार की तरफ से मिले धन से कैप्टन नीलेश सोनी की स्मृति में एक स्मारक भी बनाया गया है।


- शहीद मेजर रुषिकेश रमानी कुपवाड़ा में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए थे। उनकी मां गीता रमानी कहती हैं कि मैंने रुषिकेश को जन्म दिया था, लेकिन भारत माता ने उसकी परवरिश की। मां अपने बच्चों के बीच राज्य, जाति, धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करती हैं। अखिलेश ने राजनीतिक कारणों से कह दिया कि गुजरात से कोई शहीद नहीं हुआ है। मैं उन्हें 10 ऐसे गुजरात के जवानों के नाम बता सकती हूं जो देश के लिए शहीद हुए हैं। इन परिवारों ने अपना बेटा, भाई, दोस्त, पति खोया है। अखिलेश जी को ऐसा बयान देने से पहले कम से कम एक बार आंकड़ें तो चेक कर लेना चाहिए था।


- जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए लांस नायक गोपाल सिंह भदौरिया के पिता मुनीम सिंह ने कहा कि अखिलेश को उत्तर प्रदेश की सत्ता से बेदखल कर दिया गया है। ऐसा लग रहा है कि वह अपना मानसिक संतुलन खो चुके हैं। वह अपने भड़काने वाले बयानों के जरिए देश को बांटना चाहते हैं। नाराज मुनीम सिंह ने तो यहां तक कह दिया कि एक आदमी जो अपने पिता का नहीं हो सका वह देश का बेटा क्या होगा? उन्होंने कहा क उत्तर प्रदेश में उन्होंने हिंदू और मुस्लिमों को बांटा। ऐसे ही ठाकुरों, ब्राह्मणों और राजपूतों को बांटा। इसी बांटने वाली राजनीति के कारण उन्हें सत्ता से बेदखल किया गया। उन्होंने पूर्व में गुजरात के गधे के बारे में बात की थी और आज साबित कर दिया है कि उनके पास एक गधे के बराबर भी दिमाग नहीं है।