फर्ज़ी यूनिवर्सिटी में तो नहीं पढ़ रहे आपके बच्चे ! देखें ये खबर

नई दिल्ली (10मई): जहां देश में अभी तक उच्च शिक्षा के पर्याप्त संसाधन देश में नहीं हैं वही कुछ स्वार्थी तत्व फर्जी संस्थान खोल कर देश के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। राज्यसभा में पूछे गये एक सवाल के जवाब में मानव संसाधान विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने बताया है इस समय देश भर में 22 फर्जी यूनिवर्सिटी प्रकाश में आयीं हैं। इन सभी के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। सबसे ज्यादा फर्जी यूनिवर्सिटी उत्तर प्रदेश में हैं।दिल्ली में ऐसे विश्वविद्यालयों की संख्या पांच है। इसके अलावा विदेश मंत्रालय से भी विदेशों में काम कर रहीं फर्जी यूनिवर्सिटी की सूची मंगवायी गयी है। ताकि छात्रों को उनके मकड़ जाल में फंसने से बचाया जा सके। आप भी दखिये इन फर्जी यूनिवर्सिटीज़ की लिस्टः

 

(अ) दिल्ली की फर्जी यूनिवर्सिटीज़

1- यूनाइटेड नेशन्स यूनिवर्सिटी 2- कॉमर्शियल यूनिवर्सिटी लिमिटेड, दरियागंज 3- वोकेशनल यूनिवर्सिटी 4- एडीआर-सेंट्रिक ज्यूरिडिकल यूनिवर्सिटी 5- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस एंड इंजनीयरिंग

 

(ब) उत्तरप्रदेश की फर्जी यूनिवर्सिटी

1- वाराणस्या संस्कृत विश्वविद्यालय, वाराणसी 2- महिला ग्राम विद्यापीठ (प्रयाग), इलाहाबाद 3- गांधी हिन्दी विद्यापीठ (प्रयाग), इलाहाबाद 4- नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ इलेक्ट्रो कॉम्पलेक्स होम्योपेथी, कानपुर 5- नेताजी सुभाष चंद्र बोस यूनिवर्सिटी, अलीगढ़ 6- उत्तरप्रदेश विश्वविद्यालय, मथुरा 7- महाराणा प्रताप शिक्षा निकेतन विश्वविद्यालय, प्रतापगढ़ 8- इंद्रप्रस्थ शिक्षा परिषद, नोएडा 9- गुरुकुल विश्वविद्यालय, वृंदावन

(स) अन्य राज्यों की फर्जी यूनिवर्सिटी

1- नवभारत शिक्षा परिषद, अन्नपूर्णा, ओडिशा 2- मैथिली यूनिवर्सिटी, दरभंगा, बिहार 3- बदागानवी सरकार वर्ल्ड ओपन यूनिवर्सिटी एजूकेशन सोसयाटी, बेलगाम, कर्नाटक 4- सेंट जॉन्स यूनिवर्सिटी, केरल 5- राजा अरेबिक यूनिवर्सिटी, नागपुर, महाराष्ट्र 6- डीडीबी संस्कृत यूनिवर्सिटी, तमिलनाडु 7- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ अल्टरनेटिव मेडिसिन, कोलकाता 8- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ अल्टरनेटिव मेडिसिन एंड रिसर्च, डायमंड हर्बर रोड, ब्युल्टेक इन्न, ठाकुरपुर, कोलकाता।