900 रुपये में बेच रहा था 2000 का नकली नोट

नई दिल्ली ( 18 नवंबर ): मोदी सरकार ने पिछले साल नवंबर में बड़े नोटों पर बैन लगा दिया था। अब इन दो हजार के नकली नोट भी छपने लगे हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस मामले में गिरफ्तार धंधे के सरगना काशिद ने बताया कि उसे एक नोट 600 रुपये में मिलता था और वह इसे आगे 900 रुपये में बेचता था। नकली नोट के धंधे के सरगना काशिद को दिल्ली के आनंद बिहार आईसीबीटी से गिरफ्तार किया गया है। काशिद नकली नोटों में हर नोट पर अलग-अलग नंबर नहीं होता है, बल्कि एक साथ एक ही सीरीज के सैकड़ो नोट छापे जाते हैं।

काशिद ने बताया कि उसे यह जानकारी नहीं है कि दो हजार रुपये के यह नकली नोट बांग्लादेश में छापे जा रहे हैं या फिर पाकिस्तान में। लेकिन उसे यह जरूर पता है कि अभी इन नोटों की सप्लाई बांग्लादेश के रास्ते की जा रही थी। शक है कि नकली भारतीय नोटों को पाकिस्तान में छापा जा रहा है। 6 लाख 60 हजार रुपये की कीमत के नकली दो हजार रुपये के 330 नोटों में 250 एक सिंगल सीरियल नंबर के हैं और 80 दूसरे सिंगल सीरियल नंबर के। इसमें भी केवल चार सीरियल नंबर इसमें छापे गए हैं। देखने से असली-नकली का पता लगाना आसान नहीं है।

पता लगा है कि जब से दो हजार रुपये के यह नकली नोट छपने शुरू हुए हैं। तब से काशिद करीब दो करोड़ रुपये की कीमत के इन नोटों को भारत में खपा चुका है।