तुरंत डिलीट करें ये एप, फेसबुक से कर रहा है आपकी निजी जानकारी चोरी


नई दिल्ली (6 अप्रैल): डिजिटल युग में लोगों के पास स्मार्टफोन हैं और ऐसे में वह बिना किसी सही जानकारी के कोई भी एप डाउनलोड कर लेते हैं, जो उनके लिए परेशानी खड़ी रहे हैं। ऐसा ही कुछ फेसबुक के साथ भी हुआ है, जिसने भारत के 5.62 लाख यूजर्स के डेटा लीक होने की बात स्वीकार की है।

सरकार की ओर से जारी किए गए नोटिस के जवाब में फेसबुक ने यह बात मानी है। डेटा लीक के मामले में अमेरिकी फेसबुक यूजर्स को सबसे बड़ा झटका लगा है। फेसबुक के मुताबिक अमेरिका के 7.6 करोड़ लोगों का डेटा चोरी हुआ है। भारत इस मामले में 7वें स्थान पर है, जबकि फिलीपींस और इंडोनेशिया क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं।

भारत में 335 लोगों ने this is your digital life.Globally नाम का ऐप डाउनलोड किया था, जिसके चलते 5.62 लाख यूजर्स का डेटा चोरी हो गया। अब यह ऐप इनऐक्टिव है। आशंका जताई जा रही है कि इसके जरिए ही एनालिटिका ने भारतीयों का डेटा हासिल किया था।

यह ऐप फेसबुक पर 2013 से 2015 के दौरान ऐक्टिव था। इसमें यूजर्स से उनकी पर्सनेलिटी से जुड़े सवाल पूछे जाते थे। यूजर्स की ओर से जब इस ऐप को उनकी फेसबुक प्रोफाइल की जानकारी हासिल करने के लिए ऑथराइज किया जाता था तो वह उनके दोस्तों तक की जानकारी हासिल कर लेता था।

ग्लोबल साइंस रिसर्च के फाउंडर अलेक्सांद्र कोगन ने इस ऐप को डिवेलप किया था। ग्लोबल साइंस रिसर्च ने ही ये डेटा अपनी क्लाइंट कंपनी कैम्ब्रिज एनालिटिका को मुहैया कराए। इसके बाद 2016 में अमेरिका में कैम्ब्रिज एनालिटिका ने यूजर्स की पसंद के आधार पर उन्हें चुनाव में प्रभावित करने का काम किया।