Blog single photo

करतारपुर कॉरिडोर: सिद्धू के बाद पाक ने सुषमा स्वराज और अमरिंदर सिंह को भेजा न्योता

पाकिस्तान ने शनिवार को करतापुर गलियारे के शिलान्यास समारोह के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को न्योता भेजा है। गलियारे का शिलान्यास समारोह 28 नवंबर को होगा। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने ट्वीट कर कहा कि पाकिस्तान की तरफ से मैंने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, अमरिंदर सिंह और सिद्धू को न्योता भेजा है। हालांकि, भारत ने अभी तक गलियारे के उद्घाटन समारोह के लिए पाकिस्तान के निमंत्रण का जवाब नहीं दिया है।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (24 नवंबर): पाकिस्तान ने शनिवार को करतापुर गलियारे के शिलान्यास समारोह के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को न्योता भेजा है। गलियारे का शिलान्यास समारोह 28 नवंबर को होगा। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने ट्वीट कर कहा कि पाकिस्तान की तरफ से मैंने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, अमरिंदर सिंह और सिद्धू को न्योता भेजा है। हालांकि, भारत ने अभी तक गलियारे के उद्घाटन समारोह के लिए पाकिस्तान के निमंत्रण का जवाब नहीं दिया है।

यह गलियारा करतरपुर के ऐतिहासिक गुरुद्वारा दरबार साहिब के साथ भारत के सीमावर्ती जिले गुरदासपुर को जोड़ेगा। इससे पहले एक महत्वपूर्ण निर्णय में कैबिनेट ने भारतीय तीर्थयात्रियों को गुरुद्वारा दरबार साहिब जाने के लिए गलियारे विकसित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। करतारपुर साहिब पाकिस्तान में रवि नदी पर स्थित है और यह डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से चार किलोमीटर दूरी पर स्थित है।  

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उम्मीद जतायी है कि करतारपुर गलियारा भारत और पाकिस्तान के लोगों के बीच एक सेतु का काम करेगा । प्रधानमंत्री ने बर्लिन की दीवार के गिरने का हवाला देते हुए लोगों से लोगों के संपर्क के महत्व को रेखांकित किया और कहा कि यह गलियारा बेहतर भविष्य की ओर जायेगा। सिखों के पहले गुरु, गुरु नानक देव के प्रकाश पर्व के अवसर पर प्रधानमंत्री ने विभाजन का जिक्र करते हुए कहा, 1947 में जो हुआ सो हुआ। 

दोनों देशों की सरकारों और सेनाओं के बीच मुद्दे बने रहेंगे और सिर्फ समय ही हमें इससे बाहर निकलने का मार्ग दिखायेगा। जन से जन का संपर्क की मजबूती को रेखांकित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, क्या कभी किसी ने सोचा था कि बर्लिन की दीवार गिरेगी। हो सकता है गुरु नानक देवजी के आशीर्वाद से यह करतारपुर गलियारा महज एक गलियारा नहीं रह जायेगा बल्कि दोनों देशों के लोगों के बीच एक सेतु का काम करेगा।

Tags :

NEXT STORY
Top