हरियाणा में जाट आंदोलन के दौरान मुरथल में रेप हुआ था, दोषियों को पकड़ो: हाईकोर्ट

नई दिल्ली(20 जनवरी): जाट आंदोलन के दौरान मुरथल में हुई रेप की घटनाओं को सच मानते हुए पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने राज्य पुलिस के विशेष जांच दल से घटना की छानबीन कर दोषियों को गिरफ्तार करने के आदेश दिए हैं।

- घटना पर संज्ञान लेते हुए चश्मदीदों के बयान के बाद कोर्ट ने वृहस्पतिवार को कहा कि मुरथल में महिलाओं के अंडर गारमेंट्स मिलना इस बात का प्रमाण हैं कि वहां महिलाओं के साथ दुराचार हुआ है।

- बता दें फरवरी 2016 में हुए जाट कोटा आंदोलन के दौरान मुरथल में महिलाओं के अन्त:वस्त्र मिले थे। जिनके आधार पर वहां रेप की घटनाओं की संभावना जताई गई थी।

- कुछ गवाहों के सामने आने के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया था।

- गुरुवार को इस केस पर सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा राज्य पुलिस के विशेष जांच दल (SIT) को आदेश दिया है कि वह घटना से जुड़े सभी तथ्यों की जांच करे और दोषियों को गिरफ्तार करे, ताकि जनता में पुलिस और कानून व्यवस्था के प्रति भरोसा बना रहे।

-मसोनीपत की ट्रायल कोर्ट द्वारा लगाए गए रेप चार्ज को हाई कोर्ट ने बरकार रखा है। इस मामले से जुड़ी खबरें मीडिया में आने के बाद हरियाणा कोर्ट द्वारा पुलिस से जवाब-तलब किए जाने पर पुलिस ने इस घटना की एफआईआर दर्ज की थी।

- पुलिस ने मामले में पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया था। बाद में अंडरगारमेंट्स में मिले सीमन (वीर्य) से इनका ब्लड मैच न होने पर आरोपियों से रेप के चार्जेज हटा लिए गए थे।

- हाई कोर्ट ने SIT रेप चार्जेज के संबंध में हलफनामा दाखिल करने के लिए कहा है। साथ ही रेप की धाराओं को जारी मानते हुए ही आगे जांच जारी रखने के आदेश दिए हैं।