नौकरी करने वालों को सरकार का झटका, कम की पीएफ दर

नई दिल्ली (26 मई): ईपीएफओ यानि कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने अपने क्षेत्रीय कार्यालयों से वित्त वर्ष 2017-18 के लिये पांच करोड़ अंशधारकों के खातों में 8.55 प्रतिशत ब्याज डालने का आदेश जारी किया है। हलांकि यह वित्त वर्ष 2012-13 के बाद से अब तक का सबसे कम ईपीएफओ है।आपको बता दें कि वित्त मंत्रालय ने पिछले वित्त वर्ष में ईपीएफ पर 8.55 प्रतिशत ब्याज देने को मंजूरी दी थी। लेकिन कनार्टक के चुनावी समर की वजह से आचार संहिता लगे होने से इसे इसे जमीनी तौर पर लागू नहीं किया जा सका था। श्रम मंत्री की अध्यक्षता वाला ईपीएफओ के केंद्रीय न्यासी बोर्ड ने 21 फरवरी 2018 को हुई बैठक 2017-18 के लिये 8.55 प्रतिशत ब्याज देने का फैसला किया था। बहराल अगर ये योजना जमीनी तौर पर सही ढंग से लागू हो जाती है तो इससे आम लोगों को बड़े पैमाने पर फायद मिलेगा।