Happy B'Day Arvind Swamy: डॉक्टर बनना चाहते थे अरविंद स्वामी फिर कैसे बने एक्टर? जानें

अपनी दमदार एक्टिंग के लिए पहचाने जाने वाले साउथ के स्टार एक्टर अरविंद स्वामी (Arvind Swamy Birthday) शनिवार को 52 साल के हो गए। एक्टर साल 1991 से दक्षिण फिल्म इंडस्ट्री में अपनी बेहतरीन प्रदर्शन से लोगों को प्रभावित कर रहे हैं। जानें उनके जीवन से जुड़ी कुछ खास बातें-

Happy BDay Arvind Swamy: डॉक्टर बनना चाहते थे अरविंद स्वामी फिर कैसे बने एक्टर? जानें
x

मुंबई: अपनी दमदार एक्टिंग के लिए पहचाने जाने वाले साउथ के स्टार एक्टर अरविंद स्वामी (Arvind Swamy Birthday) शनिवार को 52 साल के हो गए। एक्टर साल 1991 से दक्षिण फिल्म इंडस्ट्री में अपनी बेहतरीन प्रदर्शन से लोगों को प्रभावित कर रहे हैं। मणिरत्नम की 'थलापति' से सिनेमा की दुनिया में अपने करियर की शुरुआत करने वाले अरविंद ने 90 के दशक में बॉम्बे और रोजा जैसी कई दमदार फिल्में दी। हाल ही में उन्हें कंगना रनौत संग फिल्म 'थलाइवी' (Thalaivii) में मुख्य भूमिका निभाते हुए देखा गया था।


दमदार एक्टिंग के अलावा, अरविंद स्वामी (Arvind Swamy career) की फिल्मों ने कई सुखद और यादगार गाने भी दिए हैं, जिन्हें अनगिनत बार सुना जा सकता है। अरविंद को जो मुख्य रूप से तमिल सिनेमा में उनके काम के लिए जाना जाता है। साल 1991 में मणिरत्नम की ड्रामा फिल्म 'थलापति' (1991) से डेब्यू करने के बाद उन्हें अगले ही साल फिर रत्नम की रोजा में देखा गया जो साल 1992 में आई थी। इसके बाद वो बॉम्बे (1995) में फिर से मुख्य भूमिका में दिखे। अरविंद ने मलयालम फिल्म देवरागम (1996) और राजीव मेनन, मिनसारा कानावु, और मणिरत्नम की अलैपायुथे (2000) सहित अन्य उपक्रमों में अभिनय किया।





और पढ़िए - Rakhi Sawant ने फैंस को कराई दुबई स्थित आलीशान घर की सैर, खूबसूरती और लग्जरी देख रह जाएंगे दंग








प्रारंभिक जीवन (Arvind Swamy Early Life)


एक्टर के शुरुआती जीवन की बात करें तो, अरविंद स्वामी का जन्म तमिलनाडु में हुआ था। उनके माता-पिता उद्योगपति वी डी स्वामी और भरतनाट्यम नर्तक वसंत स्वामी थे। स्वामी ने शिष्य स्कूल और बाद में डॉन बॉस्को मैट्रिकुलेशन हायर सेकेंडरी स्कूल से पढ़ाई की और 1987 में अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की। इसके बाद उन्होंने 1990 में लोयोला कॉलेज, चेन्नई से बिजनेस में ग्रैजुएशन पूरी की। वो नॉर्थ कैरोलिना के वेक फॉरेस्ट यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल बिजनेस में मास्टर्स करने के लिए यूनाइटेड स्टेट्स गए थे।


बचपन में स्वामी कभी भी एक्टर नहीं बनना चाहते थे और ना ही अपने पिता की तरह उन्हें बिजनेसमैन बनना था। स्वामी तो डॉक्टर बनना चाहते थे। कॉलेज में वो पॉकेट मनी के लिए मॉडलिंग किया करते थे। जब वे लोयोला थिएटर सोसाइटी में शामिल हुए, तो उनका स्वागत नहीं किया गया और उन्हें मंच से हटने के लिए कह दिया गया था। लेकिन किस्मत को तो कुछ और ही मंजूर था। मणिरत्नम ने उनका एक विज्ञापन देखा और उन्हें मीटिंग के लिए बुला लिया। उन्होंने और संतोष सिवन ने मिलकर स्वामी को फिल्म निर्माण की मूल बातों से परिचित कराया।






और पढ़िए - Madhuri Dixit ने लिया Shake It चैलेंज, किलर मूव्स देख फैंस फिर हुए मदहोश





व्यक्तिगत जीवन (Arvind Swamy Personal Life)


स्वामी ने 1994 में गायत्री राममूर्ति से शादी की और उनकी एक बेटी अधीरा (जन्म 1996) और एक बेटा रुद्र (जन्म 2000) हैं। हालाँकि, ये जोड़ी ज्यादा समय तक टिक नहीं पाई और सात साल तक अलग रहने के बाद, उन्होंने तलाक के लिए अर्जी दी। अरविंद स्वामी अपने बच्चों के साथ रहते हैं। 








और पढ़िए - मनोरंजन  से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें 

 







Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story