हवाला कांड के आरोपी सतीश संरावगी के यहां ED का छापा

कटनी (22 जनवरी): 500 करोड़ रुपए के हवाला कांड में ईडी ने गत गुरुवार को मनी लॉण्ड्रिंग का केस दर्ज किया। ईडी ने इस मामले में दर्ज चार एफ आईआर के आधार पर अहमदाबाद स्थित रीजनल हेड ऑफिस को प्रस्ताव भेजा था। वहां से मंजूरी मिलने के बाद इंदौर में कटनी के एक्सिस बैंक के अधिकारी, एसके मिनरल्स व अन्य अज्ञात के खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉण्ड्रिंग एक्ट पीएमएलए में केस दर्ज किया गया। जिसके बाद ईडी की टीम ने नायक आयारन के पास भाईजान की बिल्डिंग में ईडी की टीम के द्वारा छापा मार कार्यवाई को अजांम देते हुए हवाला कांड के जांच शुरू की है।

ईडी जांच में आगे पता चलेगा कि हवाला कांड कितनी राशि का है, इसमें आपराधिक गतिविधियों से कितने रुपए कमाए। जानकारी के अनुसार हवाला कांड मामले में कटनी पुलिस ने रजनीश कुमार तिवारी, विनय जैन, उमादत्त हल्दकर और अमर दहायत की शिकायत पर पिछले साल 12 जुलाई से 22 दिसंबर के बीच चार एफ आईआर दर्ज की थीं।

किराए के मकान में रहे थे सरावगी परिवार

ईडी की टीम ने एक आयरन वाले भाईजान के मकान में दबिश दी, जहां पर सरावगी परिवार किराए के मकान में रह रहा था। जांच में दो थाने के टीआई अतिरिक्त पुलिस अधिक्षक एवं ईडी के तीन सदस्यी टीम ने कार्यावाई की। जांच में सरावगी बधुंओं के द्वारा दस्तावेजों की जांच की जा रही। समाचार लिखे जाने तक ईडी टीम की कार्यवाई जा रही। वहीं जांच के दौरान इस सबंध में किसी भी अधिकारी के द्वारा कोई भी जानकारी देने से इंकार किया जा रहा है।

50 हजार पन्नों का रिकार्ड कैमरे में कैद कर रहा इनकम टैक्स

एक्सिस व दूसरे बैंकों में फर्जी फर्मों के नाम पर बोगस खाते खोलकर करोड़ों के हवाला कारोबार मामले में इनकम टैक्स विभाग की पड़ताल लगातार तीसरे दिन भी जारी रहा। इनकम टैक्स इनवेस्टिगेशन विंग के अधिकारी कोतवाली पुलिस द्वारा जब्त की गई 27 बोरी दस्तावेज की फोटोग्राफी कर रहे हैं। बहुचर्चित हवाला कांड की जांच पुलिस और इनकम टैक्स विभाग कर रहे हैं। यह मामला इन दिनों सुर्खियों में छाया हुआ है।

दरअसल इस मामले में जांच कर रहे कटनी एसपी गौरव तिवारी का अचानक से तबादला कर दिया गया। जिसको लेकर विरोध भी हो रहा है। गौरतबल है कि एसपी गौरव तिवारी के कार्यकाल में ही एक्सिस बैंक में बनाए गए फर्जी खातों की जांच शुरू हुई थी।

ये हैं वो चार एफआईआर

- रजनीश तिवारी ने 12 जुलाई को दर्ज पहली एफ आईआर में बताया कि आयकर विभाग की नोटिस के बाद पता चला कि उसके नाम पर एसके मिनरल्स फर्म चल रही है। उसे ऐसे किसी फर्म की जानकारी पहले नहीं थी। रजनीश ने मानवेंद्र मिस्त्री को प्राइवेट जॉब के लिए निक्की डेविट के घर पर अपनी आईडी व दूसरे दस्तावेज दिए थे।

- विनय जैन द्वारा पहले दी गई शिकायत पर भी 12 जुलाई को ही एफआईआर दर्ज हुई। बतौर विनय वे ऑटोमोबाइल दुकान में काम करते हैं। आयकर विभाग से मिली नोटिस के बाद पता चला कि उनके नाम पर महादेव ट्रेडिंग फर्म चल रहा है। जिसका खाता एक्सिस बैंक में है।

- उमादत्त हल्दकार की शिकायत पर कोतवाली पुलिस ने तत्कॉलीन एसपी गौरव तिवारी के निर्देश पर 13 जुलाई को एफआईआर दर्ज की। उमादत्त ने बताया कि आयकर विभाग से नोटिस के बाद पता चला कि उनके नाम से एक्सिस बैंक में खुले खाते से लाखों रुपए का लेनदेन हुआ है।

- अमर दहायत की शिकायत पर 22 दिसंबर को चौथी एफआईआर दर्ज हुई। होमगार्ड जवान के बेटे अमर का आरोप है कि वे कोयला व्यापारी संतोष गर्ग के ऑफिस में काम करते हैं। उनके नाम से एक्सिस बैंक में अमर ट्रेडर्स के नाम से खुले खाते में लाखों का लेनदेन हुआ है। शिकायत के बाद से संतोष गर्ग फ रार है। उसकी अग्रिम जमानत की अर्जी हाईकोर्ट जबलपुर से 16 जनवरी को खारिज हुई है।