13 राज्यों में ऑनलाईन ठगी करने वाले तीन छात्रों को पुलिस ने पकड़ा

नई दिल्ली (1 मार्च): बैंक खातों की जानकारी OTP पासवर्ड के जरिये निकलवाकर ऑनलाइन ठगी का एक बड़ा मामला सामने आया है। इस मामले के आरोपियों के शातिरपना का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है की तीन छात्रों के इस गिरोह ने देश के 13 राज्यों में ठगी की इस घटना को अंजाम देकर 800 से भी ज्यादा लोगों को अपना शिकार बनाया है।

आनलाईन शाॅपिंग करके खरीदी गयी चीजों को ये लोग तत्काल OLX पर ही हाथों हाथ बेच भी देते ताकि पुलिस के हाथ इन तक नहीं पहुंचे। पुलिस  ने बताया कि महज 20 साल का कुख्यात ठग 13 राज्यों की पुलिस पर भारी पड़ रहा था। यह एक झारखंड का छात्र है, जिसने कोलकाता में बीबीए की पढ़ाई करते हुए 13 राज्यों की पुलिस के नाक में दम कर रखा था। वह अंग्रेजी, हिंदी, भोजपुरी, बंगाली सहित अन्य कुछ भाषाओं की जानकारी रखता है।

पिछले तीन सालों से किसी भी राज्य की पुलिस इन्हें पकड़ना तो दूर इनकी भनक तक नहीं लगा पा रही थी, लेकिन एक आनलाइन शिकायत की जांच करते हुए जयपुर पुलिस ने कोलकाता और झारखंड के दो लोगों को गिरफ्तार किया तो एसी जानकारियां सामने आई। जिससे इनके ठगी का पता चला।  पुलिस के मुताबिक मुख्य आरोपी सत्यम ने देश के 13 राज्यों के करीब 2680 लोगों के खाते में सेंध लगाने की कोशिश की जिसमें से 70 से भीज्यादा लोगों के खातों में सेंध लगाकर रूपये निकलवाने में उसे कामयाबी मिली। ये आरोपी अंग्रेजी, हिंदी, भोजपुरी और बंगला सहित कई भाषाओ का अच्छा ज्ञान रखता था और बोलने की कला कुछ इस कदर थी की आसानी से किसी को भी बैंक कर्मचारी बनकर अपनी बातों में उलझा लेता।

आरोपी से जांच में यह भी पता चला है की जिस राज्य में ये अपना शिकार तलाशता उसके बारे में पहले अच्छी तरह से जानकारी निकाल लेता था औरउससे उसी भाषा में बैंक अधिकारी बनकर एटीएम कार्ड के बंद होने, एटीएम के जरिये खरीददारी की सीमा बढ़ाये जाने, एटीएम कार्ड को आधार से लिंक किये जाने , नया एटीएम कार्ड जारी करने और एटीएम को kyc को आधार पर लिंक करने जैसी बात करता। उसके बाद कुछ जानकारियां निकलवाकर एटीएम कार्ड नंबर को हैक करके बैंक खाते से जुड़े खाताधारक के मोबाइल नंबर पर OTP पासवर्ड भेजता और अपग्रेडेशन के नाम पर इस OTP नंबर को पूछकर ऑनलाईन खरीददारी करता।

जांच के दौरान यह भी पता चला है कि इन्होंने अब तक हिमाचल के सबसे ज्यादा 1725 लोगों के साथ राजस्थान के 473, गुजरात के 225  बिहार के 55, कर्नाटक के 44 और मध्य प्रदेश के 33 लोगों को फोन करके उनकी बैंक डिटेल्स निकलवाने में कामयाबी हासिल की और एक एक करके सभी को अपना शिकार बनाने की फ़िराक में थे। दक्षिण भारत के बैंक खाताधारक भी इनके निशाने पर थे।