वीडियो: नहीं समझा गजराज का दर्द तो दिखाया अपना रौद्र रूप

अमरदेव पासवान, आसनसोल (14 मार्च): अपने दोस्तों से अलग गजराज भटककर आ तो इंसानों की बस्ती में गए हैं लेकिन घबरा रहे हैं। इन्हें इंसानों की इस दुनिया के रास्ते बड़े टेढ़े मेढ़े लग रहे हैं। हज़ारों लोगों की भीड़ में इन्हें खतरा ही खतरा दिख रहा है तो कभी इधर भागते हैं तो कभी उधर भागते हैं। मगर इन्हें कोई अपना नज़र नहीं आ रहा है। वो अपने जिनके साथ ये गजराज जंगल में सैर को निकले थे।

पहले-पहले तो इन्हें अपनी गुमशुदगी का एहसास नहीं हुआ मगर जब हुआ तो अपनी खीझ उतारने के लिए ये सड़क पर खड़ी गाड़ियों से उलझने लगे। पहले रोडवेज़ की इस बस को धक्का मारा तो वो चल पड़ी, फिर रेलवे फाटक पार कर के सड़क के इस पार आए तो इस ट्रक का तिरपाल फाड़ने लगे। इतने में दिल नहीं भरा तो ट्रक को धक्का देने लगे।

इनकी कहानी ये है कि ये आसनसोल के जामुड़िया इलाके में अपने झुण्ड से बिछड़े गए और पिछले 8 दिनों से अपने झुण्ड की तलाश कर रहे हैं। झुण्ड तो इन्हे मिल नहीं उल्टे इन लोगों की भीड़ और पीछे पड़ गई। सड़क पर गजराज की दस्तक ही लोगों में खौफ भरने के लिए काफी होती है। मगर इन लोगों को क्या पता कि ये गजराज तांडव मचाने नहीं बल्कि अपनों की तलाश करते करते यहां आ गए हैं।

गजराज की आमद ने जो अफरातफरी मचाई उसने करीब 3 घंटे तक दिल्ली-कोलकाता हाईवे को जाम कर दिया। हालांकि उसके बाद ये गजराज खुद ही जंगल की तरफ दोबारा चले गए और तमाशा खत्म हो गया।

देखें वीडियो:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=x35eUnGnXAk[/embed]