बिजली उपभोक्ताओं को झटका देने की तैयारी में कंपनियां

नई दिल्ली (12 जून): कोल इंडिया की तरफ से कोयले के दामों में वृद्धि करने के निर्णय से देश भर में बिजली की दरें आठ-दस प्रतिशत महंगी हो सकती हैं। यह जानकारी टाटा पॉवर के मुख्य कार्यकारी एवं प्रबंध निदेशक अनिल सरदाना ने दी।

सरदाना ने कहा कि सरकार द्वारा उदय योजना और बिजली अधिशेष के दावों पर उत्साह दिखाने के खिलाफ भी चेताया। कोयले के दाम 13 से 19 प्रतिशत तक बढ़ गए हैं। इसलिए न्यूनतम बढ़ोत्तरी होगी। उन्होंने कहा कि तापीय विद्युत के लिए यह 13 प्रतिशत होगी। यदि परिवर्तनशील मूल्य में 13 प्रतिशत की वृद्धि होगी तो बिजली की औसत कीमतों में 8-10 प्रतिशत वृद्धि होगी।

पिछले महीने कोल इंडिया ने कोयले के मौजूदा दामों पर 6.2 प्रतिशत की औसत वृद्धि की थी ताकि इस वित्त वर्ष में 3,234 करोड़ रुपये की अतिरिक्त कमाई की जा सके।