मार्केट की दशा और दिशा तय करेंगे पांच राज्यों के चुनाव नतीजे !

नई दिल्ली (30 जनवरी): ऐसे समय में जब ज्यादातर कारोबारी बाजारों के लिए आगे की राह जानने के लिए बजट पर नजर लगाए हुए हैं, वहीं अगले कुछ दिन बाद  बाजार की चाल पंजाब, उत्तर प्रदेश, गोवा, उत्तराखंड और मणिपुर में 4 फरवरी से शुरू हो रहे विधानसभा चुनावों के नतीजों पर भी निर्भर करेगी। संयोगवश, दोनों घटनाक्रम- बजट और विधानसभा चुनाव नोटबंदी की पृष्ठभूमि में हो रहे हैं। विश्लेषकों का कहना है कि 11 मार्च को घोषित होने वाले चुनावी नतीजे सरकार के लिए चिंताजनक या फायदेमंद हो सकते हैं और इसे नोटबंदी अभियान पर जनमत संग्रह के तौर पर देखा जाएगा।  आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के वरिष्ठ उपाध्यक्ष एवं सह-प्रमुख  रवि सुंदर मुत्तुकृष्णन ने एक रिपोर्ट में कहा, 'यदि चुनावी परिणाम राजग के लिए अनुकूल साबित हुए तो इससे राज्यसभा में उसकी ताकत बढ़ेगी। इसका इस साल के अंत में राष्ट्रपति चुनाव पर भी असर दिखेगा। आबादी के लिहाज से सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में चुनाव 2019 के आम चुनाव के लिए सेमी-फाइनल के तौर पर देखा जा रहा है।