15 प्रतिशत EVM थीं खराब, खराबी की खबरें बढ़ा-चढ़ाकर पेश की गईं: चुनाव आयोग

नई दिल्ली ( 28 मई ): देश की 4 लोकसभा और 10 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए आज वोट डाले जा रहे हैं। लेकिन कैराना-नुरपूर समेत कई जगहों से ईवीएम में खराबी की शिकायतें भी आई हैं, जिसके चलते वोटिंग प्रभावित हुई है। ईवीएम और वीवीपैट में खराबी की शिकायतों के बाद विपक्ष ने इसे बीजेपी की साजिश करार दिया है।अब उपचुनाव के दौरान कई जगहों से ईवीएम मशीनों के खराब होने की शिकायतों के बीच चुनाव आयोग ने सफाई दी है कि जो भी आरोप लगे हैं वो निराधार हैं। यूपी के 2 लोकसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव के दौरान ईवीएम मशीनों के खराब होने और छेड़छाड़ संबंधी आ रही शिकायतों पर उत्तर प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी एल वेंकटेश्वर लू ने कहा, 'मशीनों के खराब होने के आरोप निराधार हैं। महज 15 फीसदी मशीनें खराब हुई हैं। शिकायत मिलने के बाद इसे बदल दिया गया है।'मशीनों के खराब होने के कारण मतदाताओं के मतदान से वंचित होने की स्थिति पर चुनाव अधिकारी ने कहा कि हर बूथ पर सभी मतदाताओं से वोट डलवाए जाएंगे। चाहे रात के 12 बज जाएं। वेंकटेश्वर ने कहा कि 25 फीसदी ईवीएम को रिजर्व रखा गया है। आयोग डीएम और कमिश्नर के संपर्क में है। चुनाव आयोग ने कहा कि उपचुनाव के दौरान वोटिंग मशीनों में खराबी और मतदान में बाधा उत्पन्न किए जाने संबंधी मीडिया रिपोर्टों को खारिज करते हुए कहा है कि इन्हें बढ़ा-चढ़ाकर बताया जा रहा है।तो दूसरी ओर समाजवादी पार्टी ने कैराना और नूरपुर जारी उपचुनाव में साजिश के तहत ईवीएम खराब करने का आरोप लगाते हुए चुनाव आयोग से शिकायत की है। उसका आरोप है कि हार के डर से बीजेपी ने ईवीएम के साथ छेड़छाड़ करवाई है। उसने आयोग से दोनों ही जगह चुनाव रद्द कराने की भी मांग की है।