तड़प उठा चीन जब भारत-नेपाल के बीच हुए 8 समझौते


नई दिल्ली (24 अगस्त):
इस समय भारत को सबसे ज्यादा खतरा चीन से है। ड्रैगन हर हाल में भारत के पड़ोसी देशों को अपनी तरफ खींचने में लगा है। लेकिन चीन को ठेंगा दिखाकर नेपाल के प्रधानमंत्री 5 दिनों के भारत दौरे पर हैं। ऐसे में दोनों देशों के बीच 8 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए तो चीन तड़प उठा।

भारत और नेपाल के प्रधानमंत्रियों के बीच वार्ता के बाद दोनों देशों ने मादक पदार्थां की तस्करी नियंत्रित करने सहित आठ समझौतों पर हस्ताक्षर किए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा के बीच रणनीति द्विपक्षीय तथा क्षेत्रीय मुद्दों पर विस्तृत चर्चा के बाद इन समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए।

देउबा के साथ संयुक्त रूप से संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि हमारी साझेदारी के पहलुओं की समीक्षा करते हुए सकारात्मक बैठक हुई। उन्होंने नेपाल के प्रधानमंत्री को आश्वासन दिया कि भारत उनके देश के विकास को लेकर प्रतिबद्ध है।

देउबा ने कहा कि नेपाल कभी भी अपनी धरती से भारत-विरोधी गतिविधियां नहीं चलने देगा। दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों ने साथ मिलकर कटईया-कौशा और रक्सौल-परवानीपुर अंतरराष्ट्रीय बिजली आपूर्ति लाइन का उद्घाटन किया। बातचीत के दौरान मोदी ने रक्षा और सुरक्षा को द्विपक्षीय संबंधों का महत्वपूर्ण पहलू बताया।