मिस्र: 'इस्लाम की बेअदबी' के आरोप में 4 ईसाई स्टूडेंट्स को जेल

नई दिल्ली (26 फरवरी): मिस्र में चार 'कॉप्टिक ईसाई' टीनएजर्स को इस्लाम की बेअदबी का दोषी ठहराया गया है। ये सभी एक ऐसे वीडियो में दिखाई दिए थे, जिसमें नमाज़ पढ़ने का मज़ाक बनाया गया था।

ब्रिटिश अखबार 'द इंडिपेंडेंट' की रिपोर्ट के मुताबिक, इनमें से तीन को मिस्र में 5 साल की जेल की सजा दी गई है। जबकि, 15 वर्षीय प्रतिवादी को ज्यूबेनाइल डिटेंशन सेंटर में अनिश्चित समय के लिए भेजा गया है। 30 सेकेंड के इस वीडियो फिल्म को एक मोबाइल फोन से जनवरी 2015 में बनाया गया था। जिस समय जेल की सजा पाए प्रतिवादियों की उम्र 15-17 साल के बीच थी।

इस वीडियो को उनके टीचर ने बनाया था, जो खुद भी ईसाई ही है। उसे भी इस्लाम की बेअदबी के आरोप  में एक अलग ट्रायल में तीन साल के लिए जेल की सजा सुनाई गई है।