आतंक के खिलाफ लड़ाई में मोदी ने मिस्र से मांगा साथ

नई दिल्ली(2 सितंबर): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद और कट्टरवाद को पूरी दुनिया के लिए खतरा बताया है। पीएम ने ये बात भारत दौरे पर मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी के साथ संयुक्त बयान जारी करने दौरान कही। 

- बता दें कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ने के लिए मिस्र ने भारत से सहयोग मांगा है। पीएम मोदी और मिस्र के राष्ट्रपति अल-सिसी ने संयुक्त बयान भी जारी किया।

- प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति अल-सिसी और मैं दोनों देशों के संबंधों के आधार निर्मित करने पर सहमत हुए हैं। हम कृषि, स्किल डेवलपमेंट और हेल्थ सेक्टर में सहयोग को और बढ़ाएंगे।

- पीएम ने कहा कि मिस्र एशिया और अफ्रीका के बीच एक प्राकृतिक सेतु है।मोदी ने बढ़ते आतंकी खतरे की बात करते हुए कहा कि इसने न सिर्फ हम दो देशों के लिए बल्कि दुनिया के लिए एक खतरा पैदा कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी से मुलाकात के बाद कहा- इस बात को लेकर हम एकमत हैं कि बढ़ती हिंसा एवं चरमपंथ और आतंक का प्रसार विभिन्न क्षेत्रों में वास्तविक खतरा है।

- उन्होंने कहा कि आपकी जनता (मिस्र के लोग), नरम इस्लाम की आवाज हैं, आपका राष्ट्र (मिस्र) क्षेत्रीय शांति और स्थिरता का फैक्टर है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार की बात करते हुए पीएम ने कहा कि हम दोनों ने इसपर सहमति जताई है।मोदी ने कहा कि आतंकवाद का मुकाबला करने के लिए हम जानकारी और ऑपरेशन से जुड़ी सूचनाओं के आदान प्रदान के लिए सहमत हुए हैं। साइबर सुरक्षा और मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े अपराधों के लिए भी हम साझा काम करने पर सहमत हुए हैं।