ब्रिटेन में वोटिंग, भारतीय शेयर बाजार में बड़ी गिरावट

नई दिल्ली(24 जून): ब्रिटेन में वोटिंग का असर भारतीय बाजार पर पड़ रहा है। EU  से ब्रिटेन के रहने या नहीं रहने को लेकर हो रही वोटिंग के बीच आज भारतीय शेयर बाजार मं भारी गिरावट दर्ज की गई है। 

सेंसेक्स में 916 अंकों की गिरावट दर्ज की गई तो, निफ्टी में 280 अंकों की गिराफट दर्ज की गई। वहीं डॉलर के मुकाबले 98 रुपये टूटा। इस बीच वित्त सचिव ने कहा है कि हालात से निपटने के लिए सरकार और आरबीआई तैयार। 

सोने के दाम में भारी उछाल हो गया है। तीन साल में सोने का दाम सबसे ऊपर पहुंच गया है। भारत के बाजार में ये आंधी सिर्फ और सिर्फ ब्रिटेन के एक फैसले के कारण आई है। ब्रिटेन में 52 फीसदी लोगों ने यूरोपियन यूनियन से अलग होने का फैसला किया है>

इस जनमत संग्रह में ब्रिटेन के करीब 30 लाख लोगों ने अपना फैसला दिया है। 43 साल बाद यूरोपियन यूनियन से ब्रिटेन आखिरकार यूरोपियन यूनियन से अलग हुआ है। 2015 के चुनाव में डेविड कैमरुन ने यूरोपियन यूनियन से अलग होने के लिए जनमत संग्रह कराने का फैसला किया था।

इसके पीछे वजह ये थी कि ब्रिटेन को लग रहा था कि दूसरे देशों से आने वाले अप्रवासी नागरिकों के चलते ब्रिटेन में नौकरी और कारोबार के मौके कम होते जा रहे हैं। ब्रिटेन के अलग होने का सीधा असर भारत के बाजार पर पड़ा है। पेट्रोल-डीजल का दाम बढ़ सकता है। सोने के उछाल का भी असर सीधा बाजार पर आएगा। सोने की कीमत बढ़ने से अब लोग गोल्ड में निवेश करेंगे, इसका भी सीधा संबंध आपसे है।

भारत के बाजार में ब्रिटेन के फैसले से जो आंधी आई है, उस पर लगातार सरकार की नजर बनी हुई है। वित्त मंत्रालय में आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने बयान दिया है कि अर्थव्यवस्था में इसका कोई बड़ा असर नहीं होगा। आपको बता दें कि यूरोपियन यूनियन की बुनियाद 1957 में पड़ी थी। उस वक्त इसमें 6 देश थे। अभी इसमें 28 देश शामिल हो चुके थे, जिसमें 19 देशों ने अपनी साझा करेंसी यूरो को मान रखा था। यूरोपियन यूनियन के देशों में कहीं भी आने जाने और कारोबार करने की छूट थी।