कालेधन वालों पर बड़ी कार्रवाई, ED ने जब्त की 245 करोड़ रुपये की संपत्ति

नई दिल्ली (17 दिसंबर): मोदी सरकार किसी भी तरह से काले धन रखने वालों को छोड़ने के मूड में नहीं है। इसी कड़ी में कार्रवाई करते हुए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने स्टेट ट्रेडिंग कॉर्पोरेशन (एसटीसी) के साथ 2200 करोड़ रुपये की कथित धोखाधड़ी के मामले से जुड़ी मनी लॉन्ड्रिंग जांच में 245 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है।

साल की शुरुआत में ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग रोधक कानून (पीएमएलए) के तहत मैसर्स ग्लोबल स्टील होल्डिंग लिमिटेड, उसके चेयरमैन प्रमोद कुमार मित्तल और अन्य के खिलाफ सीबीआई की प्राथमिकी के आधार पर आपराधिक मामला दर्ज किया था। ईडी ने बयान में कहा, 'मैसर्स बालासोर एलॉय लिमिटेड में मित्तल और मैसर्स ग्लोबल स्टील होल्डिंग लिमिटेड की आनुपातिक हिस्सेदारी का मूल्य करीब 244.89 करोड़ रुपये है, जिसे अपराध के मामले में जब्त कर लिया गया है।'

ईडी के अनुसार, जांच में पता चला है कि बालासोर अलॉयज में विभिन्न भारतीय और विदेशी प्रमोटरों एवं निवेशक कंपनियों के माध्यम से 30.35 प्रतिशत हिस्सेदारी मित्तल और जीएसएचएल के पास है। कुछ दिन पहले भी ईडी ने मित्तल और उनके सहयोगियों के 62 करोड़ के शेयर्स जब्त कर लिए थे। इस मामले में सीबीआई ने पीएसयू और स्टेट ट्रेडिंग कॉर्पोरेशन की शिकायत पर केस दर्ज किया था।

कंपनी पर एसटीसी के साथ हुए अग्रीमेंट के अनुसार तय समय पर पेमेंट नहीं करने के आरोप है। ग्लोबल स्टील फिलिपींस इंक की फिलपिंस और बॉज्निया शाखा के लिए एसटीसी ने रॉ मटीरियल ने सप्लाइ किया था। एसटीसी अधिकारियों पर आरोप है कि लगातार पेमेंट में देरी होने के बावजूद उन्होंने कंपनी का लाइन ऑफ क्रेडिट रिन्यू कर दिया था।